जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
निर्माण फाउंडेशन ने गरीब बच्चों को दिया आईएएस से टिप्स लेने का मौका, सवालों से खुश दिखे मीणा
 

चंदौली जिले के सैयदराजा इलाके में स्वयंसेवी संस्था निर्माण फाउंडेशन की ओर से रविवार को नगर में कार्यक्रम का आयोजन किया गया था, जिसमें ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व चकिया एसडीएम प्रेमप्रकाश मीणा ने संस्था से जुड़े गरीब बच्चों के साथ संवाद करते हुए उनका उत्साहवर्धन किया और आइएएस बनने के कई जरूरी टिप्स दिए। 

इस मौके पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व चकिया एसडीएम प्रेमप्रकाश मीणा ने कहा कि सकारात्मक सोच के साथ सतत प्रयास से कामयाबी जरूर मिलेगी। बच्चों के अंदर तरह तरह के सवाल व जिज्ञासा को देखकर आईएएस पीपी मीणा भी खासे उत्साहित दिखे और बच्चों के हर सवाल का जवाब दिया। 

इस मौके पर मौजूद छोटे-छोटे बच्चों ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट से पढ़ाई के बारे में कई सवाल दागे। पूछा कि आइएएस बनने का मूल मंत्र क्या है। इस पर उन्होंने जवाब दिया कि हमेशा अपनी सोच को सकारात्मक रखते हुए प्रयास करना होगा। इससे एक न एक दिन सफलता जरूरी मिलेगी। असफलताओं व बाधाओं से हार नहीं मानना चाहिए। कक्षा आठ के बच्चे ने अपने ड्रोन कैमरा बनाने के प्रोजेक्ट के बारे में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट से चर्चा की। उन्होंने पहल की काफी सराहना की। साथ ही हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया।

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व चकिया एसडीएम प्रेमप्रकाश मीणा ने कहा कि जब भी जीवन में हमेशा कुछ नया और अलग करने की कोशिश करेंगे तो हो सकता है कुछ मुश्किल हो..पर सफलता जरूर मिलेगी। हमेशा अलग करने का प्रयास करना चाहिए। बच्चों ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के बारे में पहले से होमवर्क किया था। 

आइएएस बनने से पहले उनके मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी करने के बारे में सवाल दागे। इस पर उन्होंने जवाब दिया कि देश का एक वर्ग ऐसा है, जो मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। ऐसे लोगों की सेवा करने के लिए ही मैंने आइएएस बनने की राह चुनी। बच्चों ने इंजीनियरिग व मेडिकल के क्षेत्र में जाने को लेकर सवाल दागे। उन्होंने कहा व्यक्ति किसी भी क्षेत्र में रहकर समाज की सेवा कर सकता है। इसके लिए अपने काम के प्रति समर्पित होना होगा।

 निर्माण फाउंडेशन गरीब मेधावी छात्रों को गोद लेकर उनके उच्च शिक्षा का खर्च वहन करती है। संस्था के प्रयास का लाभ लोगों को मिल रहा है।