जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
नौगढ़ इलाके के सांसद, विधायक, ब्लॉक प्रमुख उदासीन, किसी के पास नहीं इस समस्या का हल
नौगढ़ इलाके में नौगढ़ बांध का पानी नहीं खोलने से किसानों के पकी धान की फसल नहीं कट पा रही है और आने जाने में हमेशा पानी में होकर आना जाना पड़ता है।
 

कई दिनों से पानी में से आ जा रहे लोग

किसानों पर भी पड़ रहा असर

चंदौली जिले के नौगढ़ इलाके में नौगढ़ बांध का पानी नहीं खोलने से किसानों के पकी धान की फसल नहीं कट पा रही है और आने जाने में हमेशा पानी में होकर आना जाना पड़ता है। कहा जा रहा है कि काली मां मंदिर के समीप मुख्य मार्ग से कोठी मार्ग तक घुटने तक पानी लगा है। तहसील व ब्लाक के अधिकारियों के साथ साथ स्थानीय सांसद, विधायक व ब्लॉक प्रमुख भी उदासीन बने हुए हैं। 

हर दिन इस समस्या से परेशान होने वाले नाराज किसानों ने कहा पूर्व में समय से बांध का पानी खुल जाता था। जलाशय के समीप के किसान समय से खेती किसानी का काम निबटा लेते थे। आरोप है कि इस बार बांध का पानी न खुलने से किसानों की फसल अभी तक पानी में डूबी है। इस वजह से किसान खेतीबारी का काम नहीं कर पा रहे हैं।

इतना ही नहीं नौगढ़ बांध का पानी नहीं खुलने से तटवर्ती इलाकों में बसे लोगों को पानी से होकर आवागमन करना पड़ रहा है। मगरही, गहिला, धोबही, शाहपुर, बाघी, कोठी घाट, जमसोत, हथिनी, सेमर साधोपुर, होरिला, नैया घाट के लोग परेशान हैं। सबसे अधिक समस्या प्रसव पीड़ा से पीड़ित महिला, स्कूली बच्चों को हो रही है। बांध के पानी से 12 गांव के लोगों का आवागमन भी प्रभावित हो गया है।

कई लोगों को इसके कारण लगभग 25 किलोमीटर दूर घूम कर दूसरे रास्ते से कस्बा बाजार आना पड़ता है। इसके बारे में कई बार मीडिया में खबर आने व अफसरों को बताए जाने के बाद भी किसी की कान पर जूं नहीं रेंग रहा है।

इस मामले में शिव शरण जायसवाल, पंकज मद्धेशिया, रामजी केशरी, मंसा, हरि शरण, वीरेंद्र, लक्ष्मण मद्धेशिया, बनारसी गोड़ ने बताया शिकायत के बाद भी अधिकारी समस्या का समाधान नहीं कर रहे हैं। सांसद, विधायक को तो लगता है इन गांवों के लोगों से कोई मतलब ही नहीं। ब्लाक के ब्लॉक प्रमुख भी उदासीन हैं।