जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
..तो इसलिए नहीं बन पा रहा है सकलडीहा रेलवे स्टेशन पर फुट ओवर ब्रिज
 

चंदौली जिले के सकलडीहा रेलवे स्टेशन के पास वर्षों की मांग के बाद बन रहे फुट ओवरब्रिज का निर्माण कार्य आधर में लटकने लगा है। पूर्व में स्थान के चयन को लेकर हुई खींचतान के बाद पिलर खड़े कर कार्य की इतिश्री कर ली गई। जबकि फुट ओवरब्रिज न होने से प्लेटफॉर्म पार करते समय दुर्घटना की संभावना प्रबल रहती है। विभागीय अधिकारियों की मानें तो चैनल की आपूर्ति न होने से निर्माण कार्य अधूरा अटका है। 

रेलवे स्टेशन का ऐतिहासिक व आध्यात्मिक इतिहास पुराना है। स्वतंत्रता आंदोलन के साक्षी रहे स्टेशन की एक ओर काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट से संबद्ध बाबा कालेश्वर महादेव मंदिर है तो दूसरी ओर औघड़ संत डंगरिया सरकार का आश्रम। आम दिनों में भी स्टेशन पर राहगीरों की भीड़ रहती है। शिवरात्रि व गुरु पूर्णिमा को यह तादाद और बढ़ जाती है।

इस ऐतिहासिक स्टेशन पर सुविधाओं का सर्वथा अभाव है। एक प्लेटफॉर्म से दूसरे पर जाने के लिए फुट ओवरब्रिज न होने से लोग पटरियां पार करते हैं। इससे दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। स्थानीय लोग वर्षों से स्टेशन पर फुट ओवरब्रिज की मांग करते आ रहे हैं। तभी तत्कालीन रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा व सांसद डा. महेंद्र नाथ पांडेय के प्रयास से डेढ़ वर्ष पूर्व तीन करोड़ की लागत से ओवरब्रिज के निर्माण का प्रस्ताव पास हुआ था। 


इसके बाद विभागीय अभियंताओं की देखरेख में कार्य आरंभ हुआ, लेकिन सतह से तीन फीट ऊंचा पिलर खड़ा कर कार्य बंद हो गया। उपेक्षा के चलते निर्माणाधीन पिलर भी झाड़-झंखाड़ से पट गए हैं। निर्माण अधर में लटकने से लोगों में मायूसी है। 

इस बारे में स्टेशन मास्टर नवल किशोर ने काम बंद होने के सवाल पर अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। वहीं ठेकेदार के प्रतिनिधि रोहित यादव ने बताया कि पटना से 40 एमएम के चैनल की आपूर्ति न होने से विवश होकर कार्य रोकना पड़ा है। चैनल मिलते ही कार्य आरंभ कर दिया जाएगा।