जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
..और जब नदी में वृद्ध को खोजने के लिए कूद पड़े पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू
चंदौली जिले के अगहर वीर बहुरिया नदी की धारा में बह गए इंद्रदेव यादव (62 वर्ष) की गुरुवार को नदी में तलाश जारी रही। इस दौरान घटना की जानकारी होते ही सपा के राष्ट्रीय सचिव एवं पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू मौके पर पहुंचे।
 
अगहर वीर बहुरिया नदी की धारा में बह गया वृद्ध 
वृद्ध को खोजने के लिए कूद पड़े पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू



चंदौली जिले के अगहर वीर बहुरिया नदी की धारा में बह गए इंद्रदेव यादव (62 वर्ष) की गुरुवार को नदी में तलाश जारी रही। इस दौरान घटना की जानकारी होते ही सपा के राष्ट्रीय सचिव एवं पूर्व विधायक मनोज सिंह डब्लू मौके पर पहुंचे। नदी के तट पर पहुंचे पूर्व विधायक ने गोताखोरों के साथ नदी में छलांग लगा दी।

कहा जा रहा है कि क्षेत्रीय गोताखोरों को नदी की तेज धारा में काम करते देखे पूर्व विधायक खुद नदी में बहे वृद्ध की तलाश करने लगे, लेकिन खबर लिखे जाने तक कोई   सफलता नहीं मिली। इस दरम्यान नदी तट पर भारी संख्या में ग्रामीण भी मौजूद रहे। दूसरी ओर मनोज सिंह डब्लू स्वयं गोताखोरों के साथ डेढ़ घंटे तक बचाव कार्य में जुटे रहे। 

विदित हो कि धीना थाना क्षेत्र के बरहन गांव निवासी इंद्रदेव यादव बुद्धवार की शाम नदी के उस पार रहपुरी कम्हारी मौजा स्थित नदी के किनारे पर बांस काटकर नदी पार कर रहे थे‚ तभी नदी की धारा में बह गए। वृद्ध के घर पहुंचने में विलंब हुआ तो परिजनों ने शाम को खोजबीन शुरू की‚ परन्तु कही पता नहीं चला। 

Manoj Singh W Jumped Into River

गुरुवार की सुबह परिजनों को इंद्रदेव यादव की नदी में बह जाने की खबर मिली। इसके बाद बरहन गांव के साथ-साथ स्थानीय ग्रामीणों ने नदी में कूद कर काफी खोज बीन की थक हार कर ग्राम प्रधान जगमेंद्र यादव ने धीना थानाध्यक्ष अजीत कुमार सिंह को फोन कर जानकारी दी। 

वहीं जानकारी के बाद सपा नेता मनोज सिंह डब्लू भी नदी तट पर पहुंचे और बिना विलंब किए गोताखोरों के साथ वृद्ध को तलाशने के लिए नदी में उतर गए। मौके पुलिस ने गोताखोरों को महुंजी व जिगना घाट से लाकर नदी में खोज शुरू करा दिया। दोपहर तक कोई सफलता नही मिली। इस घटना से आहत परिजनों का रो–रोकर बुरा हाल था।

 

उधर‚ मनोज सिंह डब्लू द्वारा स्वयं वृद्ध की तलाश में घंटों नदी में उतरकर किए गए प्रयास को भी ग्रामीणों ने जमकर सराहा। कहा कि वास्तव में एक जनप्रतिनिधि को ऐसे ही जनता के सुख–दुख का भागीदारी होना चाहिए।