जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
लोक अदालत में निपटा दिए गए 9497 मामले, सुलह-समझौते के आधार पर निस्तारण
 

चंदौली जिले के सभी न्यायालयों, तहसीलों और बैंकों में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। इसमें सुलह-समझौते के आधार पर 9497 मामलों का समाधान किया गया। 

इस दौरान 8.10 लाख रुपये जुर्माने के रूप में वसूले गए। इसके अलावा 1.64 करोड़ 24 हजार 561 रुपये का उत्तराधिकार प्रमाणपत्र दिलाया गया।

जनपद न्यायाधीश विनय कुमार द्विवेदी ने छह वादों का निपटारा किया। पीठासीन अधिकारी मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण नरेंद्र कुमार ने 60 एमएसीटी वादों का निपटारा करते हुए 1,41,08,952 का प्रतिकर दिलाया। प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय राजकमल पांडेय ने 44 वादों का समाधान किया। छह जोड़ों को मिलाकर साथ भेजा। वहीं 16.61 लाख समझौता राशि दिलाई। 

लोक अदालत के अध्यक्ष योगेश नारायण सिंह ने एक वाद को निपटाया। अपर जनपद न्यायाधीश प्रथम जगदीश प्रसाद चतुर्थ ने 190 वादों का निस्तारण किया। इसी प्रकार विशेष न्यायाधीश एससी एसटी एक्ट अंबर रावत ने एक क्रिमिनल वाद का निस्तारण कराते हुए 500 रुपये जुर्माना वसूला। 

अपर जनपद न्यायाधीश एफटीसी प्रथम मुन्ना प्रसाद ने सात क्रिमिनल वाद निस्तारित करते हुए तीन हजार रुपये जुर्माना वसूला। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्यामबाबू ने 1307 फौजदारी वादों का समाधान करते हुए 48270 रुपये जुर्माना वसूला। इसके अलावा 4076 ई-चालान वाद निस्तारित किए गए।

 

इसके अतिरिक्त बैंकों की ओर से कुल 783 ऋण खातों का निस्तारण कर 9 करोड़ 26 लाख 80 हजार का समझौता किया गया। साथ ही 3 करोड़ 79 लाख 7 हजार रुपये नगद वसूला। जिले के सभी राजस्व न्यायालयों में कुल 18630 मामलों का निस्तारण किया गया।

न्यायिक मजिस्ट्रेट शिप्रा सिंह ने 524 वादों का निस्तारण कर 9250 रुपये जुर्माना वसूल किया। सिविल जज जूनियर डिवीजन एफटीसी प्रथम कुंवर सूर्यसेन सिंह ने 542 वादों का निस्तारण कर 18060 रुपये जुर्माना वसूला। 

सिविल जज जूनियर डिवीजन चकिया शिरीष पटेल ने 643 वादों का निस्तारण कर 18090 रुपये जुर्माना वसूल किया। अपर सिविल जज जूनियर डिवीजन चकिया नरेंद्र यादव 378 वादों का निस्तारण कर 41 हजार 210 रुपये जुर्माना वसूला। सिविल जज जूनियर डिवीजन एफटीसी द्वितीय स्नेहा सिंह ने 253 वादों का निस्तारण कर 19 हजार 770 रुपये जुर्माना वसूल किया।