जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
अब खैर नहीं : 50 साल की उम्र पार कर चुके ऐसे पुलिसकर्मियों पर होगी कार्रवाई
 

उत्तर प्रदेश सरकार पुलिस विभाग और अन्य बलों के जवानों की जांच पड़ताल शुरू कर दी है और इस बारे में एक निर्देश दिया है कि महकमे में तैनात दागी, भ्रष्ट और अयोग्य लोगों को चिन्हित कर उनकी एक सूची बनाई जाए। साथ ही साथ 50 साल की उम्र पार कर चुके अनफिट पुलिसकर्मियों की पूरी कुंडली तैयार की जाए, जिससे उनको रिटायरमेंट देने की प्रक्रिया में लाया जा सके।

 इस बात का आदेश जारी करते हुए विभागीय अधिकारियों ने कहा है कि महकमे में केवल एक्टिव और ईमानदार लोगों को रखने की कवायद तेज कर दी गई है। इसलिए लोग सावधान हो जाएं।

 आपको बता दें कि फिलहाल जिले के आला अफसर ऐसे लोगों की वह अपने तरीके से एक रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं और जल्द ही उसे शासन को भेज दिया जाएगा ताकि शासन उस पर अपने हिसाब से फैसला ले सके।

 जानकारी के अनुसार चंदौली जिले में करीब 40 निरीक्षक, 150 से अधिक उप निरीक्षक तथा 1000 से अधिक पुलिस के कांस्टेबल और हेड कांस्टेबल बेहतर कानून व्यवस्था का पालन कराने और थानों पर अच्छी सुविधा देने के लिए तैनात किए गए हैं। निरीक्षकों के साथ-साथ उपनिरीक्षकों और सिपाहियों की तैनाती कर उनकी जिम्मेदारियां बांटी गई हैं, लेकिन कई निरीक्षक और उप निरीक्षकों के साथ-साथ पुलिसकर्मी भी अपना काम इमानदारी से नहीं करते हैं और उनकी फिजिकल फिटनेस भी अच्छी नहीं है। ऐसे में इन लोगों के खिलाफ जांच करके शासन को रिपोर्ट देने की प्रक्रिया की जा रही है।

 इतना ही नहीं कई निरीक्षकों और उपनिरीक्षकों और पुलिसकर्मी खिलाफ विभागीय जांच भी चल रही है, जिसमें भ्रष्टाचार, काम में लापरवाही सहित तमाम मामले जुड़े हुए हैं। अब विभाग ऐसे लोगों को जबरिया रिटायरमेंट देने की तैयारी कर रहा है।

डीजीपी कार्यालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि दागी, अयोग्य और अनफिट पुलिसकर्मियों को जबरिया रिटायरमेंट देने की योजना है। इसमें 50 वर्ष से अधिक की आयु पूरी कर चुके ऐसे पुलिसकर्मियों को चिन्हित करके उनकी एक रिपोर्ट तैयारी की जाएगी, ताकि विभाग जल्द से जल्द ऐसे लोगों से मुक्त हो सके और बेहतर परफारमेंस के साथ काम कर सके। डीजीपी मुख्यालय से इस बाबत सभी एडीजी जोन‚ आईजी रेंज‚ पुलिस विभाग की सभी शाखाओं को निर्देश जारी किए हैं। इन निर्देशों में कहा गया है कि समय–समय पर इस बारे में जारी शासनादेशों के मुताबिक 50 वर्ष या इससे अधिक की आयु पूरी करने वाले कर्मचारियों को अनिवार्य रूप से सेवानिवृत्ति के लिए स्क्रीनिंग की कार्यवाही कराकर जोन‚ इकाई व मुख्यालय स्तर पर संकलित सूचनाएं उपलब्ध कराई जाएं।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य के पुलिस विभाग (UP Police) में 50 वर्ष की उम्र पार कर चुके कर्मचारियों की सरकारी सेवाओं में दक्षता सुनिश्चित कर उनकी अनिवार्य सेवानिवृत्ति के लिए स्क्रीनिंग की कवायद फिर से शुरू कर दी गयी है।