जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
जानिए धान खरीद व भुगतान के बारे में क्या कह रहे हैं डिप्टी RMO साहब, किसानों से धैर्य की अपील
चंदौली जिले में क्रय केंद्रों पर धान खरीद की प्रक्रिया तेज हो गयी है। अब तक जिले में 120-130 टन अनाज खरीदा जा चुका है।
 

जानिए धान खरीद व भुगतान के बारे में क्या कह रहे हैं डिप्टी RMO साहब

किसानों से धैर्य की कर रहे अपील

72 घंटे में भुगतान का भरोसा

खरीद एजेंसियों को सख्त आदेश

चंदौली जिले में क्रय केंद्रों पर धान खरीद की प्रक्रिया तेज हो गयी है। अब तक जिले में 120-130 टन अनाज खरीदा जा चुका है। हालांकि, किसानों को अभी भुगतान नहीं हो पाया है, लेकिन किसानों के पैसे के भुगतान की तैयारी है, जल्द ही उनको पैसे दे दिए जाएंगे। अधिकारियों को शासन से 72 घंटे के अंदर किसानों के खाते में पैसा पहुंचाने का फरमान है, लेकिन ऐसा होने कई कारणों से थोड़ा मुश्किल दिख रहा है।

आपको बता दें कि चंदौली जिले में इस बार 2.34 लाख टन खरीद का लक्ष्य रखा गया है। इस बार धान का उत्पादन भी ठीक है। जिला खाद्य विपणन अधिकारी ने बताया कि जिलाधिकारी के निर्देशानुसार जनपद में अब तक कुल 112 धान क्रय केंद्र अनुमोदित किये गये हैं, जिसमें विपणन शाखा के 34, पीसीफ के 19, पीसीयू के 37, नैफ़ेड के 09, यूपीएसएस के 09, FCI के 02, मंडी 02 के क्रय केंद्र हैं। 

किस ब्लाक में कितने केन्द्र


सदर विकास खंड में 15, बरहनी में 22, नियामताबाद में 06, सकलडीहा में 14, चहनिया में 11, धानापुर में 10, चकिया में 17, शहाबगंजमें 11 व नौगढ़ में 6 क्रय केंद्र स्थापित करके धान खरीद की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है। अबतक कुल 18776 किसानों द्वारा धान बेचने के लिए आवेदन किया गया है।

22 नवंबर को खरीद की बोहनी

शासन की मंशा के अनुरूप एक नवंबर से ही जिले में धान क्रय की प्रक्रिया शुरू तो कर दी गयी थी लेकिन 20-21 दिन तक क्रय केंद्र पर अनाज नहीं पहुंच सका था। इसकी वजह से सन्नाटा पसरा रहा। 22 नवंबर से खरीद की बोहनी हुई तो पहले दिन कांटा और मंडी समिति के क्रय केंद्रों पर 50 क्विंटल खरीद हुई। 23 नवंबर को मंडी समिति समेत जिले के अन्य केंद्रों पर अनाज खरीदा गया।

 विभाग के अनुसार तीन दिनों में लगभग 120-130 टन धान की खरीद हो चुकी है। पारदर्शिता के लिए ई-पाप मशीन पर किसान व केंद्र प्रभारी का अंगूठा लगवाकर खरीद हो रही है। वहीं किसानों को रसीद देने के साथ ही उनका डाटा ऑनलाइन पोर्टल पर फीड किया गया है। शासन स्तर से किसानों के आधार लिक बैंक खातों में धनराशि भेजी जाएगी। 

Dhan Kahreed

72 घंटे के अंदर किसानों को भुगतान

हालांकि अधिकारी 72 घंटे के अंदर शत-प्रतिशत किसानों को भुगतान का आश्वासन दे रहे हैं, लेकिन कभी तकनीकि कारणों से कभी इंटरनेट की समस्या व अन्य कारणों से भुगतान में देरी होती दिख रही है।

चंदौली जिले के जिला उप विपणन अधिकारी अनूप कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि चंदौली जिले में धान खरीद की प्रक्रिया सुचारू रूप से शुरू हो गई है और धान खरीदने के 72 घंटे के अंदर भुगतान की प्रक्रिया संपन्न कराने की पूरी कोशिश की जा रही है और किसानों का धान खरीदी जाने के बाद जैसे ही डाटा फीड किया जाता है, उनको उसकी जानकारी हो जाती है। विपणन विभाग की टीम धान खरीद की प्रक्रिया पर अपनी नजर बनाए हुए हैं और भुगतान में होने वाले सारी समस्याओं को दूर करते हुए भुगतान की प्रक्रिया शासन द्वारा निर्धारित समय सीमा के भीतर कराने की कोशिश की जाएगी।

किसानों से एक अपील भी

 साथ ही साथ उन्होंने एक अपील की कि अगर किसी तकनीकी कारण या फंड की कमी के अभाव के कारण किसी का भुगतान देर से होता है, तो किसानों को थोड़ा सा धैर्य बनाए रखने की जरूरत है और सहयोग करना होगा। वह नियमित रूप से ऑनलाइन भुगतान की प्रक्रिया और खरीद की मानिटरिंग कर रहे हैं, ताकि भुगतान में किसी भी तरह की कोई देरी न हो। जिला उप विपणन अधिकारी अनूप कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि सभी खरीद करने वाली एजेंसियों को भी इस संदर्भ में जानकारी दे दी गई है कि वह किसानों की भुगतान में किसी भी प्रकार की आनाकानी न करें।

यूपी एग्रो 28 नवंबर तक की मोहलत

 अनूप कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि यूपी एग्रो द्वारा 16 किसानों के लगभग 10 लाख के बकाया भुगतान के मामले में 3 दिनों के अंदर भुगतान करने की समय सीमा दी गई है। और 28 नवंबर तक उनको हर हालत में भुगतान कर देना है। अगर 28 नवंबर तक किसानों के बकाए का भुगतान नहीं होता है, तो उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करके  कानूनी कार्यवाही की जाएगी। फिलहाल यूपी एग्रो की शिकायत को देखते हुए शासन ने उसे खरीद की प्रक्रिया से दूर कर दिया है। अब किसानों को इस तरह की शिकायत नहीं मिलेगी। अबकी बार सरकार ने केवल उन्हीं एजेंसियों को धान खरीद की प्रक्रिया में लगाया है, जिन्होंने किसानों के भुगतान में किसी तरह की हीलाहवाली नहीं दिखाई है।