जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
30 क्रय केंद्रों के जरिए 2 लाख टन धान खरीदने की है तैयारी, इन बातों का रखना होगा ध्यान
धान खरीद की तैयारियों को अंतिम रूप देने में जिला प्रशासन जुटा हुआ है। जानकारी के अनुसार धान खरीद की प्रक्रिया एक नवंबर से शुरू होने की उम्मीद है।
 

2 लाख टन धान खरीदने की है तैयारी
धान खरीद की प्रक्रिया एक नवंबर से होगी शुरू


 

चंदौली जिले में धान खरीद की तैयारियों को अंतिम रूप देने में जिला प्रशासन जुटा हुआ है। जानकारी के अनुसार धान खरीद की प्रक्रिया एक नवंबर से शुरू होने की उम्मीद है। वैसे जिले में दो लाख टन से अधिक खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अब तक इसके लिए 30 क्रय केन्द्र बनाए जाने की बात कही जा रही है। अबकी बार इमानदारी से धान खरीद के लिए तमाम तरह के इंतजाम किए गए हैं।

कहा जा रहा है कि अबकी बार धांधली और हेराफेरी करने वाली धान खरीद एजेंसियां खरीद नहीं कर पाएंगी। इस बार पारदर्शिता के साथ धान खरीद के लिए क्रय केंद्रों पर ई-पाप मशीनें लगाई जा रही हैं और अंगूठा लगवाकर व आधार नंबर दर्ज करने के बाद ही किसानों की उपज को खरीदने का फरमान जारी किया गया है।  

चंदौली के किसानों ने अबकी बार जिले में लगभग 1.25 लाख हेक्टेयर में धान की खेती करने का काम किया है, जिससे लगभग चार लाख टन धान उत्पादन का लक्ष्य है। यहां के हालात व फसल की स्थिति को देखा जाए तो अक्टूबर के अंत तक धान की फसल की कटाई का क्रम शुरू हो जाएगा। इसके आठ से दस दिन बाद ही धान केन्द्रों पर आने का सिलसिला शुरू हो पाएगा।

Dhan Khareed

30 क्रय केंद्रों को मंजूरी

जिले में जिला खाद्य व विपणन विभाग पहले से ही अपनी तैयारी में जुटा हुआ है है। जिले में धान खरीद के लिए 30 क्रय केंद्रों को मंजूरी भी मिल चुकी है। मुख्यालय स्थित नवीन कृषि मंडी के अलावा अन्य प्रमुख कस्बों, नगरों व ग्रामीण इलाकों में क्रय केंद्र खोले जाएंगे। डिमांड के अनुरूप क्रय केंद्रों की संख्या बढ़ाई जाएगी। 

इनके जिम्मे है खरीद का काम

चंदौली जिले में इस बार जिला खाद्य विपणन विभाग, पीसीएफ, भारतीय खाद्य निगम, मंडी समिति समेत प्रमुख एजेंसियों को धान क्रय में लगाया गया है, जबकि किसानों का अनाज खरीदकर समय से भुगतान न करने वाली एजेंसियों को बाहर कर दिया गया है। ऐसे में क्रय केंद्रों पर अनाज बेचने वाले किसानों को इस बार भुगतान के लिए अधिक इंतजार नहीं करना होगा। किसानों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। बड़े किसानों के अपर जिलाधिकारी व छोटे किसानों के आवेदन का सत्यापन एसडीएम करेंगे। इसके बाद ऑनलाइन टोकन दिया जाएगा। इसके अनुसार ही क्रमवार ढंग से खरीद होगी। 

अबकी बार धान खरीद में बटाईदार किसानों को अपनी फसल बेंचने की परमीशन नहीं दी जा रही है। इससे बटाईदार के नाम पर खरीद में होने वाली घपलेबाजी पर नकेल कस जाएगी। इसको देखते हुए सरकार ने यह फैसला लिया है। अब किसान भी इस तरह की शिकायत नहीं कर पाएंगे।

Dhan Khareed

 यह है समर्थन मूल्य

डिप्टी आरएमओ अनूप कुमार श्रीवास्तव से मिली जानकारी के अनुसार किसानों को धान का समर्थन मूल्य सरकार ने तय कर दिया है। सामान्य धान के लिए 1940 रुपये और ए ग्रेड धान का 1960 रुपये प्रति क्विंटल का रेट दिया जाएगा। किसानों को मानक के अनुरूप अपने अनाज की सफाई करने के साथ ही सुखाकर ही केंद्र पर लाना होगा। तय मानक से अधिक नमी होने पर उपज नहीं खरीदी जाएगी।