जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
गिरेगी गाज : अब जिलाधिकारी के निशाने पर आए CMO चंदौली, मिली लापरवाही पर चेतावनी
 

चंदौली जिले के जिलाधिकारी जिले के लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ चेतावनी पत्र जारी करने का सिलसिला शुरू कर दिया है। जिला पंचायती राज अधिकारी के बाद आज अपर जिला अधिकारी (वित्त एवं राजस्व) की रिपोर्ट के बाद मुख्य चिकित्सा अधिकारी को चेतावनी जारी कर दी गई है। 

 आपको बता दें कि चंदौली जिला अस्पताल में सांसद निधि से 200 एलएमपी का ऑक्सीजन प्लांट तैयार है, जिससे पुरुष वार्ड के 70 बेड पर पाइपलाइन के जरिए ऑक्सीजन की सप्लाई होनी। इसके अतिरिक्त पी-2 वार्ड के 10 बेड और आइसोलेशन वार्ड के 10 बेड पर 48 एलएमपी ऑक्सीजन प्लांट के जरिए ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए तैयारी पूर्ण बताई जा रही है।

DM Chandauli warning

 आज अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व में जिला अस्पताल का निरीक्षण किया तो उस समय उपस्थित चिकित्सक राजकुमार सिंह ने बताया कि संयुक्त जिला अस्पताल 100 बेड का हॉस्पिटल है, किंतु आवश्यकता अनुसार से 150 बेड तक तैयार किया जा सकता है। 


अस्पताल में पीएम के द्वारा 1000 एलएमपी का ऑक्सीजन प्लांट तैयार करने के लिए आवश्यक मशीन 5 सितंबर से आकर रखी हुई है। इस प्लांट को लगाए जाने के लिए आवश्यक प्लेटफार्म और फाउंडेशन के साथ-साथ शेड का भी भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के द्वारा तैयार कराया जा रहा है।

DM Chandauli warning

इस मौके पर प्लेटफार्म भी बनकर तैयार हो गया है व शेड लगाने का कार्य चल रहा है। अगले 3 से 4 दिनों में शेड का काम भी पूरा हो जाने की उम्मीद है। पर ऑक्सीजन सप्लाई के लिए जरूरी पाइप लाइन तैयार नहीं हो पाई है। बर्न यूनिट में भी सप्लाई की कोई व्यवस्था नहीं बन पाई है।

 निरीक्षण के बाद अपर जिलाधिकारी जिला अस्पताल की सुविधाओं और व्यवस्थाओं से खुश नजर नहीं आए और उन्होंने अपनी रिपोर्ट तैयार की। उनकी रिपोर्ट के बाद जिलाधिकारी संजीव कुमार ने सीएमओ को कोविड के खतरे को जानने व समझने और कमिश्नर व जिलाधिकारी की बार बार चेतावनी के बाद भी अपने कार्य प्रणाली में कोई सुधार नहीं ला पाए और अपने कार्यों में लापरवाही बरतते रहे।

DM Chandauli warning

अपर जिलाधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाने जैसे महत्वपूर्ण कार्यों में कोई दिलचस्पी नहीं लेने पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को पत्र जारी किया है। कहा है कि सीएमओ के द्वारा अपने दायित्वों के निर्वहन में शिथिलता बरती जा रही है। इसलिए उनको अपर जिला अधिकारी की रिपोर्ट के बाद कठोर चेतावनी दी जा रही है।