जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
इस स्कूल में नहीं है पीने के पानी की सुविधा, बच्चों ने किया हंगामा

एक ओर जहां प्रदेश सरकार कायाकल्प जैसी योजना चलाकर स्कूलों को बेहतर बनाने की कोशिश कर रही है तो वहीं स्थानीय अफसरों व योजनाओं को लागू करने वाले लोग उसमें गोलमाल करके हेराफेरी कर रहे हैं। 

 

इस स्कूल में नहीं है पीने का पानी

बच्चों ने किया हंगामा 

चंदौली जिले के सकलडीहा ब्लाक में बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से परिषदीय स्कूलों की बेहतर व्यवस्था के लिए कायाकल्प योजना के तहत पेयजल, प्रकाश, सफाई आदि के इंतजाम कराने की पहल जारी है। इसके बाद भी कई ऐसे स्कूल हैँ जहां बच्चों को पीने का साफ पानी तक नहीं मिल रहा है। इसी तरह की समस्या के लिए बुधवार को पूर्व माध्यमिक विद्यालय अमालव में पेयजल की व्यवस्था नहीं होने पर परेशान बच्चों ने हंगामा भी किया। 

शिक्षक और प्रधानाचार्य ने किसी तरह पानी की व्यवस्था कर छात्रों को शांत कराया और कहा कि जल्द ग्राम प्रधान व अन्य अफसरों से बात करके इस समस्या को दूर कराने की कोशिश की जाएगी।

पूर्व माध्यमिक विद्यालय अमावल में पिछले कई दिनों से हैंडपंप खराब है। विद्यालय के शिक्षक और प्रधानाध्यापक द्वारा लिखित शिकायत करने के बाद भी इसे ठीक नहीं किया गया। प्रधानाध्याक लालबहादुर सिंह ने बताया कि दो बार बोरिंग खराब हो चुकी है। लिखित शिकायत के बाद भी समस्या का समाधान नहीं हुआ। जिससे बच्चों को मध्याह्न भोजन के बाद पीने के पानी के लिये दूर जाना पड़ता है।

जिले के आला अफसरों व कायाकल्प योजना के मानीटरों को इस तरह की समस्या पर भी ध्यान देने की जरूरत है ताकि स्कूलों में मूलभूत जरूरतों पर काम हो सके।