जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
गरुण एप्लिकेशन : अब वोटर लिस्ट संशोधन, नाम कटवाने व जुड़वाने का ऑनलाइन आसान तरीका
 

चंदौली जिले में गरुण एप्लिकेशन के जरिए अब मतदाता सूची में तत्काल नाम जोड़वाया जा सकेगा। वहीं नाम, पता संशोधन, मृतकों व शिफ्टेड के नाम कटवाने में भी परेशानी नहीं होगी। आयोग ने लोगों की सहूलियत के लिए एप्लिकेशन को शुरू किया है। इसके जरिए आनलाइन ढंग से मतदाताओं के नाम जोड़ने व काटने का काम आसानी से किया जा सकेगा। 

मतदाताओं को निर्वाचक नामावली में नाम जोड़वाने के लिए लोगों को पहले बीएलओ व निर्वाचन कार्यालय के चक्कर काटने पड़ते थे। बीएलओ को अलग-अलग फार्म भरकर देना पड़ता था। ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया में भी बीएलओ को प्रपत्र भरकर तहसील में जमा कराना होता है। यहां इसकी फीडिंग होती है। इसके बाद मतदाता सूची में नाम शामिल होता है और उन्हें मतदाता पहचान पत्र मिलता है। इस प्रक्रिया में कई दिन लग जाते हैं। वहीं काफी पेपर वर्क भी होता है। 


बड़े काम का है नया एप

कहा जाता है कि आवेदन के बावजूद कई लोगों के नाम सूची में नहीं जुड़ पाते हैं। इससे उन्हें मायूसी होती है और यह भी नहीं पता चल पाता है कि किस कारण से नाम नहीं जुड़ पाता है। अब ऐसे एप्लिकेशन से लोगों को इस तरह की परेशानियों से निजात मिल जाएगी। सभी बीएलओ को मोबाइल में एप्लिकेशन अपलोड करने का निर्देश दिया गया है। ताकि वे घर-घर जाकर ऑनलाइन लोगों के नाम सूची में शामिल कर सकें। यूपी विधानसभा चुनाव में भी इस एप्लिकेशन को आजमाने की तैयारी है।

मतदान केन्द्रों के बारे में भी जानकारी

गरूण एप्लिकेशन पर मतदाताओं को मतदान केंद्रों के बारे में भी सूचनाएं मिलेंगी। बीएलओ घर-घर जाकर मतदाताओं की टैगिंग करेंगे। उनकी पूरी डिटेल इसमें अपलोड की जाएगी। साथ ही उनका मतदान केंद्र का विवरण भी अपलोड किया जाएगा। इससे लोगों को अपना मतदान केंद्र ढूंढने में सहूलियत होगी। वहीं एक परिवार के सदस्यों के अलग-अलग मतदान केंद्र नहीं होंगे। परिवार के सभी सदस्यों को इस बार एक ही मतदान केंद्र पर वोट डालने के मौका मिलेगा।

बोले डीएम साहब

जिला निर्वाचन अधिकारी संजीव सिंह का कहना है कि निर्वाचन आयोग के द्वारा शुरू किया गया गरूण एप्लिकेशन लांच किया है। इससे मतदाता सूची पुनरीक्षण के साथ ही मतदान केंद्रों पर 25 तरह की सुविधाओं की टैंगिग प्रभावी ढंग से की जा सकेगी। सूची पुनरीक्षण के लिए विशेष अभियान नवंबर से शुरू हो सकता है। आयोग के निर्देश का शत-प्रतिशत पालन कराया जाएगा।