जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
विधायक जी, हनुमान मंदिर की कुटिया की जमीन को बचा लीजिए, देखिए कैसे हो रही कब्जा करने की कोशिश
चंदौली जिले के बबुरी थाना क्षेत्र के धनेजा गांव में भारतीय जनता पार्टी के कुछ समर्थक कहे जा रहे लोगों ने गांव के हनुमान मंदिर की कुटिया वाली जमीन पर अपनी निगाह गड़ा दी है।
 

धनेजा गांव में हनुमान मंदिर की जमीन को लेकर तनाव

ठंडे बस्ते में पुलिस ने डाला मामला

ग्रामीण लगा रहे विधायक जी से गुहार 

 हनुमान मंदिर की कुटिया की जमीन को बचा लीजिए,

हो रही कब्जा करने की कोशिश

चंदौली जिले के बबुरी थाना क्षेत्र के धनेजा गांव में भारतीय जनता पार्टी के कुछ समर्थक कहे जा रहे लोगों ने गांव के हनुमान मंदिर की कुटिया वाली जमीन पर अपनी निगाह गड़ा दी है। मंदिर की कुटिया के परिसर में लगे हरे पेड़ों को काट-झांटकर जमीन पर अपना दावा किया जा रहा है। मामले को लेकर गांव के लोगों में आक्रोश है और गांव के लोग धरना प्रदर्शन करने का मूड बना रहे हैं।

धनेजा गांव के हनुमान मंदिर की कुटिया वाली जमीन पर रखी गयी हनुमानजी की मूर्ति लगभग दो माह पहले चोरी हो गयी थी, तब गांव वालों ने मामले में कार्रवाई की मांग की तो मौके पर पुलिस व भाजपा के तमाम नेताओं ने पहुंचकर भव्य मंदिर व मूर्ति की स्थापना का आश्वासन दिया था। मामले में ब्लाक प्रमुख, विधायक व भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष ने हर संभव मदद का आश्वासन दिया था, लेकिन अब कोई मदद करने को तैयार नहीं है।  

गांव के लोगों ने बताया कि मंदिर के निर्माण के लिए बनी समिति के कोषाध्यक्ष पंकज कुमार सिंह की मंदिर की 9 बिस्वा जमीन में से कुछ जमीन अपनी होने की दावा कर रहे हैं। इसके लिए वह वहां के पेड़ों की कटाई झटाई करके जमीन हथियाने की कोशिश कर रहे हैं।

Hanuman Temple Land Dhaneja.

गांव में बहुत अधिक आक्रोश


 आपको बता दें कि इस बात को लेकर गांव में बहुत अधिक आक्रोश है और गांव के लोग जल्द ही इस मामले को लेकर एक आंदोलन करने की योजना बना रहे हैं। मामले में ग्राम प्रधान ने अपने तरफ से शिकायत करते हुए पुलिस और वन विभाग को जा मामले की जानकारी दे दी है तथा मंदिर की जमीन के किनारे लगे पेड़ों को काटने का मामला भी बता दिया है, लेकिन अभी तक इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है बल्कि वन विभाग और पुलिस के लोग इसे ठंडे बस्ते में डालने का काम कर रहे हैं।

 हो गयी थी मूर्ति की चोरी 

आपको बता दें कि हनुमान मंदिर में लगभग 2 से 3 महीने पहले मूर्ति की चोरी हो गई थी और उस समय हंगामा को शांत कराने के लिए स्थानीय पुलिस और मौके पर पहुंचे सदर ब्लाक के प्रमुख भाजपा विधायक सहित तमाम भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने नई मूर्ति और भव्य मंदिर बनाने का आश्वासन दिया था और सभी ने हर तरह का सहयोग करने की भी बात कही थी। उसके बाद इस मंदिर के निर्माण के लिए समिति का गठन किया गया और ग्राम प्रधान मन्नू नाथ शर्मा को अध्यक्ष तथा गांव के पंकज कुमार सिंह को कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई। पंकज कुमार सिंह भारतीय जनता पार्टी के बूथ अध्यक्ष रहे हैं और वह ही इस जमीन पर अपनी दावेदारी प्रस्तुत कर रहे हैं। ऐसे में कहीं ना कहीं भारतीय जनता पार्टी का कनेक्शन सिद्ध हो रहा है।

 कुटिया के नाम से कुल 9 बिस्वा जमीन

 लोगों का कहना है कि हनुमान मंदिर की कुटिया के नाम से कुल 9 बिस्वा जमीन है, जिस पर मंदिर के अलावा अगल-बगल पेड़ लगे हुए हैं और उस जमीन के पश्चिम तरफ पंचायत भवन, उत्तर की तरफ तालाब और उत्तर के कोण पर प्राथमिक विद्यालय मौजूद है, जबकि कुटिया के पूर्व की तरफ पंकज सिंह व वीरेंद्र बहादुर सिंह सहित अन्य लोगों की जमीन बताई जाती है। यह लोग ही कुटिया के किनारे लगे पेड़ों को काट छांट कर अपनी जमीन बता रहे हैं और जमीन कब्जाने की तैयारी कर रहे हैं। उनका दावा है कि कुटिया में कुछ जमीन उनके भी हिस्से की है।

 ग्राम प्रधान मन्नू नाथ शर्मा का दावा

 मामले की जानकारी देते हुए ग्राम प्रधान मन्नू नाथ शर्मा ने कहा कि हनुमान जी की कुटिया की मूर्ति चोरी हो गई थी, जिसके बाद लोगों के कहने पर वह अपनी ओर से 50 हजार की मदद करने के लिए तैयार हैं और विधायक जी ने भी 21 हजार रुपए देकर भव्य मंदिर बनाने की बात कही है। वह मंदिर के पिलर को बनवाकर मंदिर की जमीन सुरक्षित कराने को लिए तैयार हैं, लेकिन कुछ लोग मंदिर के निर्माण कार्य में अड़ंगा डाल रहे हैं। इसको लेकर गांव वालों में आक्रोश है। पुलिस और वन विभाग को इस मामले की जानकारी दे दी गई है और अगर जल्दी यह मामला नहीं सुलझता है तो जल्द ही गांव की जनता आंदोलन करके मंदिर की जमीन बचाने की कोशिश करेगी।

Hanuman Temple Land Dhaneja.

गांव की जनता करेगी बहिष्कार

 गांव के लोगों का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी के नेता हनुमान जी की मूर्ति चोरी होने के समय बहुत अच्छा आश्वासन देकर गए थे, लेकिन उसके बाद वह भूल गए। नेताजी लोगों को चुनाव के समय जनता की याद आएगी। अगर मंदिर का निर्माण नहीं हुआ और उसकी जमीन को बचाने में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने मदद नहीं की तो आने वाले चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का गांव के द्वारा बहिष्कार भी किया जा सकता है।

डॉक्टर नारायण मूर्ति ओझा बोले

 इस मामले में कांग्रेस पार्टी के नेता डॉक्टर नारायण मूर्ति ओझा उर्फ मुन्ना ओझा का कहना है कि विधायक जी एक तरफ चंदा देकर मंदिर बनवाने का दावा कर रही हैं, तो वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के समर्थक लोगों की पैरवी कर रही हैं। उन्हें इस तरह के दोहरे चरित्र से बचना चाहिए और भगवान के साथ गेम नहीं करना चाहिए। जनता इस मामले में आक्रोशित है अगर कोई भी बवाल बड़ा तो इसकी जिम्मेदारी भारतीय जनता पार्टी के विधायक की भी होगी।