जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
3 हजार अपात्रों से किसान सम्मान निधि की वसूली की तैयारी, 2 करोड़ से अधिक अपात्रों के खाते में
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की लाइन में नौकरी पेशा व सुविधा संपन्न लोग भी लगे हैं। कृषि विभाग ने जिले में 80 हजार लाभार्थियों का सत्यापन किया इसमें तीन हजार अपात्र मिले
 

किसान सम्मान निधि की वसूली की तैयारी

2 करोड़ से अधिक अपात्रों के खाते में

चंदौली जिले में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की लाइन में नौकरी पेशा व सुविधा संपन्न लोग भी लगे हैं। कृषि विभाग ने जिले में 80 हजार लाभार्थियों का सत्यापन किया इसमें तीन हजार अपात्र मिले। उन्हें नोटिस भेजी गई है। किसी लाभार्थी के खाते में चार तो किसी को सम्मान निधि की पांच किस्त मिल चुकी है।

कहा जा रहा है कि चंदौली जिले में दो करोड़ से अधिक धनराशि अपात्रों के खाते में पहुंची है। सभी से धनराशि की रिकवरी की जाएगी। कृषि विभाग अब तक अपात्रों से 75 लाख से अधिक रुपये वसूलकर शासन को लौटा चुका है। किसानों की मदद के लिए केंद्र सरकार हर चौथे माह उनके खाते में दो हजार रुपये की किस्त भेजती है। 

ऐसा माना जा रहा है अगले माह दिसंबर में नौवीं किस्त खाते में जाएगी। शासन को अपात्रों को योजना का लाभ लेने की शिकायत मिली थी। ऐसे में सभी लाभार्थियों का सत्यापन कराने का निर्देश दिया था। कृषि विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों ने जांच में जिले में तीन हजार अपात्र चिह्नित किए। नौकरी पेशा वाले लोगों के खाते में भी किसान सम्मान निधि की किस्त पहुंच गई थी। कुछ अपात्रों के खाते में सम्मान निधि की चार तो कुछ को पांच किस्त मिल चुकी है। इस तरह देखा जाए तो उनके खाते में दो करोड़ से अधिक रुपये पहुंचे हैं।

कृषि विभाग के सामने अब उनसे भारी-भरकर धनराशि की वसूली की चुनौती है। नोटिस जारी कर अपात्रों को शीघ्र धनराशि शासन को लौटाने का निर्देश दिया है। यदि अपात्रों ने स्वत: पैसा नहीं लौटाया तो सख्ती की जाएगी। 

2.02 लाख हैं जिले में लाभार्थी 


कृषि प्रधान जनपद में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के 2.02 लाख लाभार्थी हैं। सभी के खाते में दो हजार की किस्त पहुंचती है। अभी भी लगभग 22 हजार किसानों के आवेदन में त्रुटि है। इस वजह से योजना के लाभ से वंचित हैं। किसी का खाता नंबर गलत है तो किसी की आधार संख्या में त्रुटि है। इसकी वजह से खाते में किस्त नहीं पहुंच पा रही है।

 

उपनिदेशक कृषि विजेंद्र कुमार का दावा है कि किसान सम्मान निधि के 80 हजार लाभार्थियों का सत्यापन कराया गया। जिले में लगभग तीन हजार अपात्र मिले हैं। उन्हें नोटिस जारी कर दी गई है। उनसे धनराशि की रिकवरी की जाएगी। सरकारी स्तर पर कार्य शुरू हो गया है।