जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
लूट मची है लूट : नौगढ़ में बिना बेटी के 'शादी अनुदान' व जिंदा को 'मृतक योजना' का लाभ दे रहें हैं अधिकारी
चंदौली जिले के नक्सल प्रभाविक नौगढ़ इलाके में सरकारी योजनाओं में लूट खसोट व बंदरबांट का सिलसिला थमा नहीं है, जिसको जैसे मौका मिल रहा है
 

सरकारी योजनाओं में लूट खसोट जारी

नौगढ़ बना हुआ है जेब भरने का खास अड्डा

चंदौली जिले के नक्सल प्रभाविक नौगढ़ इलाके में सरकारी योजनाओं में लूट खसोट व बंदरबांट का सिलसिला थमा नहीं है, जिसको जैसे मौका मिल रहा है वह माल कमाने के चक्कर में पड़ जा रहा है। इतना ही नहीं लोग बिना बेटी के शादी अनुदान योजना का लाभ लेने का काम कर ले रहे हैं और जीवित को मार दिया जा रहा है।

कुछ ऐसा ही मामला उजागर हुआ है, जिसमें एक बाप के पास बेटी है ही नहीं, लेकिन पिता के खाते में शादी अनुदान योजना की 20 हजार रुपये की किस्त पहुंच गई है। जीवित व्यक्ति को मृत दिखाकर पारिवारिक लाभ योजना के 30 हजार हजम कर लिए। नौगढ़ ब्लाक में सरकारी योजनाओं का हाल देखने के बाद यह पता चल रहा है कि जिले में आने वाले पैसे का क्या हो रहा है और कैसे कागज में खपाया जा रहा है। 

vivah anudan

लोगों के द्वारा शिकायत के बाद भी कार्रवाई की रफ्तार काफी धीमी है, क्योंकि कमीशन में हिस्सा लेने वाले अधिकारी ने तो सही ढंग से योजनाओं की मानीटरिंग कर रहे हैं और न ही शिकायत मिलने पर जांच व कार्रवाई। ऐसे में निचले स्तर के कर्मचारी सरकार की मंशा को पलीता लगाते हुए माल कमा रहे हैं और अपने साथ साथ अपने आला अफसरों की जेब भी भर रहे हैं।

 कुछ ऐसे भी मामले हैं कि लोगों को पहले पता तक नहीं कि उनके खाते में अनुदान का पैसा आया है। जिलाधिकारी संजीव सिंह तक शिकायत पहुंची तो उन्होंने मामलों की जांच के निर्देश दिए। जांच में अनियमितता में उजागर होने पर संलिप्त अधिकारियों-कर्मचारियों पर कार्रवाई तय है।


अमदहां चरनपुर गांव निवासी दिनेश केशरी के दो पुत्र हैं। उनकी पत्नी संगीता पिछले दिनों बैंक में मनरेगा मजदूरी का पैसा निकालने गई थीं। खाते का बैलेंस पता किया तो 20 हजार अधिक था। इस पर उन्होंने बैंककर्मियों से पूछताछ की तो पता चला कि बिटिया की शादी के लिए 20 हजार रुपये का अनुदान उनके खाते में आया है। इससे ताज्जुब में पड़ गईं, क्योंकि उन्हें कोई पुत्री नहीं है। उन्होंने घर आकर पति को बताया तो उन्होंने पूरा पैसा निकाल लिया। 

इसी तरह जीवित व्यक्ति रामबृज को मृत दिखाकर उनकी पत्नी के खाते में पारिवारिक लाभ योजना के तहत 30 हजार रुपये भेज दिए। वहीं पात्र योजनाओं के लाभ से वंचित हैं। इसी तरह की शिकायतें संपूर्ण समाधान दिवस में इसको लेकर शिकायत जिलाधिकारी तक पहुंची। उन्होंने ग्राम्य विकास, समाज कल्याण विभाग को ऐसे मामलों की जांच कर तत्काल रिपोर्ट देने को कह तो दिया, लेकिन ऐसे लोगों पर कोई ठोस कार्रवाई होगी यह कहना काफी मुश्किल है। 

cash

डीएम के निर्देश के बाद रविवार को अधिकारियों की टीम अमदहा चरनपुर समेत अन्य गांवों में पहुंची, पैसा लेने वालों बयान दर्ज कर लिया है। इसकी वीडियो रिकार्डिंग भी कराई गई है। अधिकारियों ने जल्द रिपोर्ट डीएम को भेजने की बात कही। अपात्रों से सरकारी धनराशि की रिकवरी होगी। वहीं इसमें संलिप्त अधिकारियों-कर्मचारियों पर कार्रवाई होने के संकेत दिए जा रहे हैं। 

मामले में एडीओ समाज कल्याण आरपी मौर्या ने बताया शिकायत के बाद मामलों की जांच की जा रही है। रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी जाएगी। उनके निर्देशानुसार आगे की कार्रवाई होगी।