जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
सपा नेता अंजनी सिंह की विधायक साधना सिंह को सलाह, व्यक्तिगत झगड़े को जातिगत-दलगत रूप देकर राजनीतिक रोटी न सेकें
चंदौली जिले के धानापुर क्षेत्र में समाजवादी चिंतक जिला पंचायत सदस्य सपा नेता अंजनी सिंह ने सिकटिया की घटना पर पीड़ित परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि......
 

अंजनी सिंह की साधना सिंह को सलाह

व्यक्तिगत झगड़े को जातिगत-दलगत रूप देकर न सेकें राजनीतिक रोटी

चंदौली जिले के धानापुर क्षेत्र में समाजवादी चिंतक जिला पंचायत सदस्य सपा नेता अंजनी सिंह ने सिकटिया की घटना पर पीड़ित परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि भाजपा विधायिका द्वारा दो पक्षों के बीच हुए विवाद और अमानवीय घटना को समाजवादी पार्टी से जोड़ना और मौत जैसी मार्मिक घटना पर राजनैतिक रोटी सेकना बड़ा अफसोस जनक एवं दुःखद है । दरसल भाजपा की विचारधारा ही ऐसी है जो संवेदना सैयम और सामाजिक संतुलन बनाए रखने के बजाय दुखद परिस्थितियों में भी राजनीति करने का काम करती है। 


अंजनी सिंह ने कहा कि सत्ता दल की विधायिका जी को ऐसे मौकों पर संवेदना रखना चाहिए कम से कम ऐसे मौकों पर राजनीतिक रोटी ना सेके। माननीय जिस तरह वीडियो में पुलिस अधिकारियों को मुख्यमंत्री जी का नाम लेकर धमका रही हैं यही तेवर उनको पहले दिखाना चाहिए था। विधायिका जी वीडियो में जिस तरह बोल रही हैं उससे यह साफ हो जा रहा कि सत्ता में रहते हुए भी उनकी सुनवाई नहीं हो रही। उत्तर प्रदेश पुलिस दबाव में काम कर रही है या फिर सत्ता के दबाव में काम करने को मजबूर है।


आप को बता दें कि भाजपा राज में अभी हाल में सैयदराजा थाने में जो घटना घटी क्या विधायिका जी उन्हें भी भाजपा के गुंडे कह पाएंगी। सैयदराजा थाना सहित जनपद प्रदेश में तमाम घटनाएं घटी क्या विधायिका जी व भाजपा का कोई नेता उन सभी घटनाओं को भाजपा के गुंडों द्वारा घटित घटना कहेंगे।


 श्री सिंह ने कहा भाजपा के लोगों के मन मे 2022 के हार की हताशा हाबी हो चुकी है। इसलिए बेचैनी में जो जी में आए बयान देकर बार बार समाजवादी पार्टी को बदनाम करने में लगे रहते हैं । भाजपा के लोग सिर्फ झूठा प्रचार करने दूसरों के सिर तोहमत मढ़ने नफरत फैलाने जनता को बरगलाने में माहिर हैं । सिकटिया घटना पर भाजपा आज जितना विधवा विलाप कर रही है। नीचे से लेकर ऊपर तक सरकार सत्ता रहते हुए भी भाजपा का कोई एक भी नेता पीड़ित पक्ष का मदद करने को आगे नहीं आया। सब सोए रहे और अब मौत जैसी संवेदनशील परिस्थितियों में एक समाज को दूसरे समाज से लड़ाने समाज को बांटने का काम कर रहे हैं। समाजवादी पार्टी कभी भी ऐसी घटनाओं का पक्षधर नहीं रही।


सिंह ने कहा कि सिकटिया मामले में पुलिस को बिना किसी दबाव के न्यायोचित कार्यवाही करना चाहिए ताकी न्याय हो सके और पुलिस की छबी पर दाग ना लगे । पुलिस पर दबाव डाल कर मामले का रुख मोड़ना गलत है पुलिस को मामले में निष्पक्ष स्वतंत्र कार्यवाही करना चाहिए।