जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
कन्या सुमंगला योजना : योगी सरकार का यह है संकल्प व लक्ष्य, जोड़ी जाएंगी 2 लाख बालिकाएं
 

प्रदेश की बेटियों के उत्थान के लिए प्रदेश सरकार 15 दिसम्बर तक कन्या सुमंगला योजना से लगभग दो लाख नई पात्र बालिकाओं को जोड़ने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इन पात्र नई बालिकाओं को योजना से जोड़कर अनुदान राशि सीधे उनके बैंक खातों में ट्रांसफर की जाएगी।

Kanya Sumangala Yojana

महिला कल्याण एवं बाल विकास विभाग के निदेशक मनोज राय ने बताया कि मिशन शक्ति अभियान के तहत इस योजना से नई पात्र बालिकाओं को जोड़ने का कार्य तेजी से चल रहा है। उन्होंने बताया कि विभाग की ओर से तीन माह से कम समय में प्रदेश के 75 जिलों की लगभग 2 लाख नई बालिकाओं को योजना का लाभ प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने कहा कि इस लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में विभाग ने एक कार्य योजना बनाई है, जिसमें जिलों को उनके सम्बंधित लक्ष्यों के बारे में निर्देशित किया गया है जिसके अनुसार वे काम करेंगे।

गौरतलब है कि प्रदेश में कन्या भ्रूण हत्या को रोकने, बालिकाओं के स्वास्थ्य व शिक्षा को सुदृढ़ करने, बालिका के परिवार को आर्थिक सहायता प्रदान करने के साथ ही बालिका के प्रति आम जन में सकारात्मक सोच विकसित करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अप्रैल 2019 में मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना की शुरूआत की। 1 अप्रैल 2019 को लागू इस योजना ने अब तक उत्तर प्रदेश में 10.01 लाख से अधिक लड़कियों को डीबीटी के माध्यम से लाभान्वित किया है। मिशन शक्ति अभियान की मदद से योजना के तहत 1.55 लाख से अधिक नई पात्र बालिकाओं को जोड़ा गया।

Kanya Sumangala Yojana

तीन माह में पूरा करेंगे लक्ष्य

राज्य में मिशन शक्ति 3.0 जैसे प्रमुख अभियान इस बात का प्रमाण है कि मुख्यमंत्री योगी ने महिलाओं और लड़कियों के कल्याण को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। चरणबद्ध तरीके से लक्ष्य निर्धारित किया गया है। 15 अक्टूबर तक, जिलों को 70 हजार नए लाभार्थियों को कवर करने के लिए निर्देश दिए हैं वहीं नवम्बर माह के लिए 70 हजार और दिसम्बर माह के लिए योजना के तहत 60 हजार पात्र नई बालिकाओं को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा है। इस तरह विभाग 2 लाख नई बालिकाओं को योजना से जोड़ेगा।