जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
सरकारी अस्पतालों में बाहर से लिखी जा रही दवाएं व इंजेक्शन, परेशान हो रहे गरीब मरीज
डाक्टर साहब कहीं नाराज न हो जाएं, इस भय से मरीज मेडिकल स्टोर से दवा खरीदने को विवश हैं।
 

यहां पर ध्यान देने की जरूरत है सीएमओ साहब

मेडिकल स्टोर से दवा खरीदने को विवश हैं मरीज

चंदौली जिले के चकिया सरकारी अस्पतालों के चिकित्सकों व स्वास्थ्यकर्मियों की मनमानी और लापरवाही जारी है।  मरीजों के निकट आते ही उन्हें दूर रहने की घुड़की के साथ बाहरी दवाओं की पर्ची थमा दी जाती है। ऐसा नहीं कि प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर दवाओं का टोटा है। फिर भी मरीजों को बाहर से दवा खरीदनी पड़ रही है। ऐसा इसलिए कि डाक्टर साहब कहीं नाराज न हो जाएं, इस भय से मरीज मेडिकल स्टोर से दवा खरीदने को विवश हैं।

आपको बताते चलें कि प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में दवा, इंजेक्शन की उपलब्धता को शासन भले ही गंभीर है, लेकिन दवा प्रतिनिधियों से मिलने वाले उपहार व मोटे कमीशन की लालच में डाक्टर साहब अस्पताल की दवा को लाभकारी न बता कर उसे खड़िया, मिट्टी बता दिया करते हैं और छोटी पर्ची थमा कर बाहर की दवाएं लिख दे रहे हैं। यही नहीं सरकारी के बजाए निजी पैथालाजी से ही जांच की नसीहत देने से भी नहीं चूक रहे हैं। सरकारी अस्पतालों में लैब (प्रयोगशाला) के साथ ही एलए व एलटी हैं। इसके बावजूद डाक्टरों की मनमानी मरीजों और तीमारदारों पर भारी पड़ रही है। हालांकि मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने जिले के सभी सरकारी अस्पतालों में दवा व इंजेक्शन की पर्याप्त उपलब्धता व सभी जरूरी जांच होने का दावा किया है, जबकि जमीनी हकीकत इससे बिल्कुल इतर है। मुड़हुआ दक्षिणी पीएचसी के चिकित्सक ने पिछले दिनों बाहर की दवा लिखी तो लोगों ने हंगामा खड़ा कर दिया और सीएम पोर्टल पर शिकायत भी की।

कमीशन पर तय हैं मेडिकल स्टोर व पैथालाजी

पीएचसी व सीएचसी के चिकित्सकों ने मेडिकल स्टोर व पैथालाजी सेंटर तय कर रखे हैं। यदि किसी मरीज ने बताए मेडिकल स्टोर से दवा नहीं ली, तो उसे बेकार बता वापस करा देते हैं। यही नहीं, जांच की सलाह के साथ पैथालाजी सेंटर की पर्ची थमा देते हैं। साथ ही यह हिदायत देना नहीं भूलते हैं कि जांच वहीं कराना है, अलग कराया तो रिपोर्ट ठीक नहीं आएगी। यहां से कमीशन लेने को चिकित्सक ऐसा खेल करते हैं।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*