जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
कांचे ही बांस के बहंगिया बहंगी लचकत जाए, आदि गीतों से गुलजार रहा इलाका
चकिया काली जी के पोखरे पर युगांधर समिति तथा मां काली सेवा समिति द्वारा सहायतार्थ शिविर भी लगा था, जिसमें ब्रतियों सहित उनके साथ आने वाले परिजनों को व्यवस्थाएं प्रदान की गई थी।
 

चकिया नगर सहित ग्रामीण अंचलों में डाला छठ की रही धूम

प्रति महिलाओं ने अस्ताचलगामी सूर्य को दीया अर्ध्य

 चंदौली जिला के चकिया नगर सहित ग्रामीण अंचलों में भी लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा पर रविवार की शाम व्रती महिलाएं डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर पूजन अर्चन किया। छठ पूजा के लिए व्रती महिलाओं के साथ उनके परिजन सूप दौरी लेकर प्रसाद स्वरूप ठोकवा, फल, ईख लेकर घाटों तक पहुंचे। वहीं बहुत से व्रतियों के घर से ही बाजा बाजा के साथ प्रसाद लेकर परिजन घाट तक गए। इस दौरान उपजिलाधिकारी ज्वाला प्रसाद तथा अधिशासी अधिकारी मेंहीलाल गौतम पुलिस बल के साथ घाटों की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। वही विधायक कैलाश आचार्य भी मौजूद रहें।

Chhath puja 2022

  बताते चलें कि चकिया नगर के मां काली मंदिर पोखरा शिकारगंज के महाराजा काशी नरेश पोखरा सिकंदरपुर पोखरा, खरौझा, इलिया कस्बा महारानी लक्ष्मीबाई सरोवर, खखड़ा, खिलची, कलानी, उसरी, बेन, तियरी, सरैया बसाढी, मंगरौर सहित विभिन्न गांवों में छठ पूजा पर शाम 4 बजे से घाटों पर जुटी महिलाएं इकट्ठा होकर कमर भर पानी में खड़ा होकर अस्ताचलगामी सूर्य को अर्ध्य दिया। इस दौरान ब्रतियों के साथ उनके परिजन भी भारी संख्या में जुटे रहे। जिससे चकिया काली जी पोखरे सहित विभिन्न सरोवरों पर मेले जैसा दृश्य उत्पन्न हो गया था। 

चकिया काली जी के पोखरे पर युगांधर समिति तथा मां काली सेवा समिति द्वारा सहायतार्थ शिविर भी लगा था, जिसमें ब्रतियों सहित उनके साथ आने वाले परिजनों को व्यवस्थाएं प्रदान की गई थी। अर्ध के लिए दूध की व्यवस्था भी पर्याप्त मात्रा में की गई थी। वहीं छठ मैया के बज रहे गीत 'कांचे ही बांस के बहंगिया बहंगी लचकत जाए' 'केलवा के पात पर उगले सुरजवा, आदि गीत बज रहे थे। जिससे पूरा इलाका गुलजार हो गया था। सुरक्षा की दृष्टि से चकिया कोतवाली, इलिया थाना सहित शिकारगंज, रामपुर, सैैदूपुर चौकी की पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद रही।

Chhath puja 2022

स्मरण हो कि 36 घंटे का सूर्य उपासना का महापर्व अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देने के बाद सोमवार की सुबह उदयीमान सूर्य को अर्ध देने के बाद डाला छठ का यह महापर्व संपन्न होगा।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*