जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
दोयम दर्जे की ईंट से कोविड वार्ड का हो रहा निर्माण, घटिया बालू व ईंटों से हो रहा काम
चंदौली जिले के शहाबगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र परिसर में ही कोविड वार्ड का निर्माण किया जा रहा है। इसमें मानक की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। वहीं निर्माण कार्य भी बेरोकटोक जारी है। ऐसी दशा में भवन की मजबूती पर प्रश्न चिन्ह खड़ा हो रहा है
 

अधीनस्थ उनके आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं

भवन के निर्माण में एक नंबर ईंट की जगह दो नंबर की ईंट का प्रयोग धड़ल्ले से हो रहा है

चंदौली जिले के शहाबगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र परिसर में ही कोविड वार्ड का निर्माण किया जा रहा है। इसमें मानक की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। वहीं निर्माण कार्य भी बेरोकटोक जारी है। ऐसी दशा में भवन की मजबूती पर प्रश्न चिन्ह खड़ा हो रहा है। प्रदेश की योगी सरकार एक तरफ भ्रष्टाचार मुक्त शासन प्रशासन की ढिढ़ोरा पीट रही है। लेकिन उनके अधीनस्थ उनके आदेशों की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं।

मामला प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र शहाबगंज का है। जहां कोरोना महामारी की तीसरी लहर को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग द्वारा 6 बेड का कोविड वार्ड बन रहा है, जिसकी 9.60 लाख रुपये से बनाया जा रहा है। लेकिन भवन के निर्माण में एक नंबर ईंट की जगह दो नंबर की ईंट का प्रयोग धड़ल्ले से हो रहा है। वहीं  मोटे बालू की जगह कर्मनाशा नदी के बालू का प्रयोग किया जा रहा है, जिससे भवन की गुणवत्ता पर ही प्रश्न चिन्ह खड़ा हो रहा है। 

ऐसी दशा में भवन कितना मजबूत बनेगा कहां नहीं जा सकता। वहीं ठेकेदार से इस बारे  में बात करने पर उन्होंने भूसी से ईंट पकाये जाने के कारण इसी तरह की ईंट मिलने की बात कही। 

मामले में प्रभारी चिकित्साधिकारी डा. हीरा सिंह ने कहा कि भवन निर्माण में दोयम दर्जे की ईंट का प्रयोग हुआ। लेकिन टेंडर लखनऊ से हुआ है। काम व इसकी गुणवत्ता के बारे में कोई जानकारी नहीं है।