जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
अराजक तत्वों ने काट डाली गोविंदीपुर राजवाहा, धान की रोपाई के लिए पानी को तरस रहे किसान
बारिश की आस लगाए किसान इन दिनों बादलों को झांक रहे हैं। बीच में एक-दो दिन बारिश होने से खेत में बीज डालकर किसी तरह उसे रोपाई के लिए नर्सरी को तैयार किए हुए हैं।
 

किसानों को परेशान कर रहे मनबढ़ किस्म के लोग

आगे पानी जाने में बन रहे रोड़ा

इनकी करतूतों के आगे अधिकारी बने हुए हैं बेबस

चंदौली जिला के शहाबगंज विकासखंड अंतर्गत गोविंदीपुर राजवाहा के ढुन्नू, रामपुर गांव के समीप अराजक तत्वों द्वारा बीती रात नहर को काट दिए जाने से पानी आगे किसानों के खेतों तक नहीं पहुंच पा रहा है। जिससे धान की रोपाई के लिए पानी को लेकर किसान परेशान हैं।

  बता दें कि बारिश की आस लगाए किसान इन दिनों बादलों को झांक रहे हैं। बीच में एक-दो दिन बारिश होने से खेत में बीज डालकर किसी तरह उसे रोपाई के लिए नर्सरी को तैयार किए हुए हैं। लेकिन इंद्रदेव के रुठ जाने से पिछले एक महीने से बारिश नहीं हो रही है। धीरे-धीरे जुलाई भी समाप्त होने वाला है। ऐसी स्थिति में किसान समरसेबल या नहरों का सहारा लेकर किसी तरह धान की रोपाई कर रहे हैं। वहीं गोविंदपुर राजवाहा से जुड़े किसानों को इन दिनों में भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। 

Govindipur Rajwaha Broken

विदित हो कि धान की रोपाई के लिए नहरों में पानी तो छोड़ा जा रहा है, लेकिन कुछ अराजकतत्वों द्वारा गोविंदपुर राजवाहा के बीच में ही ढुन्नू, रामपुर गांव के समीप कई बार नहर को काटकर कुछ किसान अपने खेतों तक पानी ले जा रहे हैं। जिससे आगे के किसानों को पानी नहीं मिल पा रहा है। जिससे उनकी तैयार नर्सरी सूखने की कगार पर है। ऐसी स्थिति में किसानों ने अपने समस्या सिंचाई विभाग के अधिकारियों तक लगाई गुहार लगाई है।

  वहीं किसान विकास मंच के संयोजक राम अवध सिंह ने कहा है कि नहर को बीच में कटिंग करने वाले कभी किसान नहीं हो सकते ऐसे लोग सिर्फ अराजक तत्व हैं। उन्होंने किसानों से अपील किया है कि वह दिन से ज्यादा रात में नहरों पर पहरा लगाएं, पकड़े जाने पर अराजक तत्वों का मुंह तोड़ जवाब दें। 

 सिंचाई विभाग के सहायक अभियंता राकेश तिवारी का कहना है कि बार-बार नहरों के काटने से उसका मरम्मत करना कठिन कार्य होता जा रहा है। उन्होंने किसानों से अपील किया है कि वह बारी-बारी से अपने खेतों की सिंचाई करें। नहर की कटिंग करना समस्या का समाधान नहीं है।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*