जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
सिकंदरपुर के मां भगवती देवी मंदिर में अनुष्ठान तथा पूजन अर्चन के साथ हुआ नई मूर्ति का स्थापना
नई मूर्ति की स्थापना के लिए मंदिर के अंदर पुरानी छोटी मंदिर को हटाकर विस्तार किया गया।
 

चंदौली जिला के सिकंदरपुर कस्बा स्थित मां भगवती देवी प्रांगण में विगत 4 दिनों से विधि विधान एवं मनोयोग से नई देवी मूर्ति का अनुष्ठान पूजा पाठ अन्न, जल और फल से  कराया गया।

बता दें कि सोमवार को सुबह 11 बजे से विधि विधान से पूजा पाठ का कार्य विद्वान ब्राह्मण कैलाश दूबे आचार्य के नेतृत्व में मंत्रों के साथ देवी देवताओं का आह्वान कर किया गया। वहीं दोपहर 3 बजे खंडित मूर्ति का विदाई किया गया। और गंगा नदी में प्रवाहके लिए भेज दिया गया। नई मूर्ति की स्थापना के लिए मंदिर के अंदर पुरानी छोटी मंदिर को हटाकर विस्तार किया गया। जिससे अब मंदिर में काफी भव्यता और जगह देखने को मिल रही है। सायंकाल मूर्ति को स्थापित किया गया।

Puja Anusthan Bhagwati Mandir
विधि विधान से पूजा पाठ करते लोग

विद्वान ब्राह्मणों में कृष्णानंद पांडेय आचार्य शेषनाथ दूबे संतोष दूबे और संत सुरेंद्र पाठक उर्फ बचवा गुरु द्वारा पूजा पाठ कार्य संपन्न कराया गया। इस मौके पर सायंकाल विशाल भंडारे का आयोजन भी किया गया। इस दौरान चकिया कोतवाली पुलिस प्रशासन का विशेष सहयोग रहा।

ज्ञातव्य है कि गत 3 जून की रात किसी शरारती तत्वों द्वारा देवी मूर्ति को खंडित कर दिया गया था। जिसका चकिया थाने में एफ आई आर दर्ज है। पुलिस द्वारा अभी तक मामले का खुलासा नहीं किया गया है।पूजा-पाठ कार्यक्रम में पन्ना लाल यादव, राजाराम यादव, नीरज केसरी, अनिल रस्तोगी, रामसूरत प्रजापति, विवेक पाठक रहे।

Puja Anusthan Bhagwati Mandir
मंदिर में प्रसाद बनाते लोग

इस मौके पर ग्राम प्रधान सीमा गुप्ता, ग्राम प्रधान प्रतिनिधि सत्य प्रकाश गुप्ता  सिकंदरपुर व्यापार मंडल के अध्यक्ष शीतला प्रसाद केसरी, बिमलेश विश्वकर्मा, राजू विश्वकर्मा, राजनाथ यादव, पूर्णमासी पटेल, पूर्व प्रधान हीरालाल यादव, भूतपूर्व प्रधान राजीव पाठक, शिवानंद पटेल, मंदिर समिति के अध्यक्ष श्री राम यादव, राजनाथ यादव, राजकुमार जायसवाल, संतोष मौर्या, संतोष कुमार जायसवाल, आदित्य गुप्ता बंधु सहित सैकड़ों लोग मंदिर में उपस्थित रहेगा सभी का कार्य सराहनीय रहा।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*