जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
ABSA पहुंचे कम्पोजिट विद्यालय कौड़िहार, वायरल वीडियो का किया पड़ताल, पायी गुरुजी की कमियां
 

कम्पोजिट विद्यालय कौड़िहार, वायरल वीडियो का किया पड़ताल, पायी गुरुजी की कमियां

विद्यालय की सामग्री को घर ले जाने का वायरल हुए वीडियो का पड़ताल किये।

चंदौली जिला के शहाबगंज विकासखंड के खंड शिक्षा अधिकारी अरविंद यादव गुरुवार को कम्पोजिट विद्यालय कौड़िहार पहुंचे। जहां विद्यालय के प्रधानाध्यापक अशोक वर्मा द्वारा छुट्टी के दिन बुधवार को विद्यालय की सामग्री को घर ले जाने का वायरल हुए वीडियो का पड़ताल किये।

     आपको बता दें कि वायरल हुए वीडियो में प्रधानाध्यापक के साथ उनका पुत्र भी हेलमेट लगाए मौके पर मौजूद रहा जबकि विद्यालय का गेट बंद रहा। और गेट के बाहर ग्रामीणों द्वारा प्रधानाध्यापक अशोक वर्मा को रंगे हाथ आग बुझाने वाला यंत्र, बच्चों को मिड डे मील खाने वाला नया थाली और नया ग्लास के साथ बिजली का केवल और मिड डे मील के लिए रखा गया बोरे में गेहूं बाइक पर ले जाते वक्त पकड़ लिया गया है। 

ग्रामीणों ने अग्निशमन यंत्र और गेहूं को ले जाने की बात पूछी तो वह खाली पड़े यंत्र को रिफलिंग कराने गेहूं पिसाने की बात कहे। वही ग्लास, थाली को ले जाने की बात पर प्रधानाध्यापक कोई जवाब नहीं दे पाए। ग्रामीणों ने पूरे प्रकरण की जानकारी खंड शिक्षा अधिकारी तथा बेसिक शिक्षा अधिकारी को मोबाइल फोन द्वारा तत्काल दी। वहीं विद्यालय से चोरी चुपके इन सामग्रियों को ले जाने का वीडियो भी ग्रामीणों द्वारा वायरल कर दिया गया। यहां तक कि कुछ विभागीय शिक्षकों ने इस वीडियो को अपने अधिकारियों तक भेज डाली। 

मामले को संज्ञान में लेते हुए बेसिक शिक्षा अधिकारी सत्येंद्र सिंह ने पूरे प्रकरण की जांच खंड शिक्षा अधिकारी अरविंद यादव को सौंपा। विद्यालय पर पहुंचे खंड शिक्षा अधिकारी ने ग्रामीणों के बीच प्रधानाध्यापक से पूरे प्रकरण की जानकारी ली। जिसमें प्रधानाध्यापक अशोक वर्मा ने रटी रटाई भाषा गेहूं को पिसाने और अग्निशमन यंत्र को रिफलिंग कराने की बात कही। मगर बिजली के केविल, नए थाली और ग्लास की बात को विद्यालय में टाइल्स लगाने के कारण रखने में हो रहे अवरोध के कारण दूसरे जगह रखने की बात कहकर बचना चाह रहे थे।

    इस मामले में खंड शिक्षा अधिकारी अरविंद यादव ने बताया कि विद्यालय की सामग्री को किसी भी शिक्षक अथवा प्रधानाध्यापक को कहीं ले जाने की अनुमति नहीं है। प्रधानाध्यापक द्वारा इस तरह की कार्रवाई से उनकी गलती पूरी तरह से प्रतीत होती है। उन्होंने कहा कि पूरे प्रकरण की जांच पड़ताल करके मामले से बेसिक शिक्षा अधिकारी को अवगत कराने हेतु रिपोर्ट प्रेषित की जा रही है।