जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
5100 दीपों की झिलमिल रोशनी से जगमग हुआ मां काली का पोखरा, अद्भुत छटा को निहारते रहे लोग
चंदौली जिले के चकिया मां काली मंदिर पोखरा कार्तिक पूर्णिमा की शाम शुक्रवार को देव दीपावली पर दीपों से जगमग हो उठी।
 

5100 दीपों की झिलमिल रोशनी

जगमग हुआ मां काली का पोखरा

अद्भुत छटा को निहारते रहे लोग
 

चंदौली जिले के चकिया मां काली मंदिर पोखरा कार्तिक पूर्णिमा की शाम शुक्रवार को देव दीपावली पर दीपों से जगमग हो उठी। दीपों के झिलमिल सितारों की रोशनी में नहा रहे मां काली मंदिर का पोखरा अद्भुत छटा बिखेर रही थी। इस अलौकिक छटा का आनंद लेने के लिए नगर सहित दूर दराज से आए लोगों ने भरपूर आनंद उठाया।


बता दें कि ओम सेवा समिति के तत्वावधान में मनाया जाने वाला देव दीपावली का यह पर्व मां काली मंदिर परिसर में 13वें वर्ष से मनाया जा रहा है। कोरोना महामारी के चलते 2 वर्षों के अंतराल के बाद अब की बार देव दीपावली का पर्व एक बार फिर आज बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। 5100 दीपों से सजी मां काली मंदिर का पोखरा मनोहारी छटा को बिखेर रहा था ऐसा लग रहा था मानो चकिया के मां काली मंदिर परिसर के अलौकिक छटा को देवता भी देवलोक से निहार रहे हो। 

Maa Kali Pokhara


  वहीं ओम सेवा समिति के तत्वावधान भक्ति जागरण का कार्यक्रम भी अपने आप में एक पुरानी यादगार को जीवंत करता रहा है। भक्ति जागरण का शुभारंभ समाजवादी पार्टी के नेता प्रवीण सोनकर और समाजसेवी डॉ गीता शुक्ला ने गणेश जी की चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलित करने के साथ किया। वहीं कार्यक्रम के संस्थापक रहे चकिया नगर की चर्चित  पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष एवं चकिया नगर को आदर्श नगर पंचायत का दर्जा दिलाने वाले अशोक कुमार बागी के तैल चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें याद किया गया। 


इसके साथ ही सखा जागरण ग्रुप मुगलसराय के कलाकारों ने रात्रि तक अपने अभिनय भक्ति संगीत तथा भगवान शिव मां पार्वती, मां काली आदि देवी देवताओं की झांकी निकाल कर दर्शकों तथा श्रोताओं को मंत्र मुक्त करते रहे। समिति द्वारा क्षेत्र के अधिकारियों, गणमान्य नागरिकों, जनप्रतिनिधियों तथा लोकतंत्र के चौथे स्तंभ कहे जाने वाले पत्रकारों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। 


इस दौरान पोखरे पर जन सैलाब उमड़ पड़ा। हजारों की संख्या में आए लोगों ने देव दीपावली पर हुए कार्यक्रम का भरपूर लुफ्त उठाया। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए जगह-जगह समिति के कार्यकर्ता जगह-जगह लगे रहे। वही पुलिस बल की भी तैनाती की गई थी।


इस अवसर पूर्व विधायक जितेंद्र कुमार एडवोकेट, उदय खरवार टोनी, गुरुदेव चौहान गुप्ता, सुजीत जायसवाल, आशीष जायसवाल, आलोक जायसवाल, दीपचंद जायसवाल, अजय मद्धेशिया, मुरली श्याम ,मीडिया प्रभारी कार्तिकेय पाण्डेय, नरेंद्र कुमार, प्रमोद कुमार सिंह एडवोकेट, राहुल विश्वकर्मा, जमुना सोनकर, लकी जायसवाल,अमरदीप मोदनवाल, लोकनाथ सिंह, सहित कई कार्यकर्ता मौजूद रहे। संचालन नरेंद्र श्रीवास्तव एडवोकेट ने किया।


इसके अलावा सिकन्दरपुर पोखरे पर स्थित सिद्धेश्वर मंदिर के घाट पर  देव दीपावली के अवसर पर 25 सौ दीयों को जलाया गया। इस अवसर पर सिकन्दरपुर उद्योग व्यापार मण्डल के अध्यक्ष शीतला केशरी, सत्यप्रकाश गुप्ता, विमलेश विश्वकर्मा, विजय चौरसिया, प्रियम, सतॊष, सचिन, शशिकांत, सुनील गुप्ता सहित तमाम कार्यकर्ता मौजूद थे।


वही मुजफ्फरपुर चन्द्रप्रभा नदी के बीयर पर ग्राम प्रधान अवध नारायण जायसवाल और मंदिर के पुजारी राजकुमार तिवारी के नेतृत्व में असंख्य दीप जलाये गये।