जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
जनपद से 134 शिक्षकों का गैर जनपद में हुई रवानगी, प्राथमिक शिक्षा हुई बेपटरी
माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद में के निर्देश पर जनपद के कुल 134 अध्यापकों को बेसिक शिक्षा अधिकारी चंदौली द्वारा गैर जनपद जाने की अनुमति प्रदान की गई थी।
 

हाईकोर्ट के आदेश पर शिक्षक रिलीव

कई विद्यालयों में शिक्षकों का टोटा

चंदौली जिले की प्राथमिक विद्यालयों में तैनात 134 शिक्षकों का गैर जनपद हो जाने के बाद बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा दी गई अनुमति के बाद जिले से सभी 134 शिक्षक गैर जनपद के लिए रवाना हो गये हैं।

आपको बता दें कि माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद में के निर्देश पर जनपद के कुल 134 अध्यापकों को बेसिक शिक्षा अधिकारी चंदौली द्वारा गैर जनपद जाने की अनुमति प्रदान की गई थी। बताया जा रहा है कि 68,500 सहायक अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया में चयनित अभ्यर्थी जिनके द्वारा प्रथम जनपद न आवंटन होने के विरुद्ध विरुद्ध याचिका दायर की गई थी।  इस  याचिका में पारित आदेश के अनुपालन में यात्रियों द्वारा प्राप्त कराए गए अभिलेख व ऑनलाइन प्रपत्र के परीक्षणों उपरांत पात्र पाए गए याचीगणों को बेसिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश प्रयागराज के निर्देश के क्रम में तैनाती स्थल से हटाकर उनके प्रथम च्वाइस वाले जिले में तैनाती दी गयी है।

बेसिक शिक्षा अधिकारी निर्देशित किया कि संबंधित मामले में सभी शिक्षकों को उन्हें तत्काल प्रथम आवंटित जनपद के लिए कार्य मुक्त करने का निर्देश दिया गया था, जिसके बाद सारे शिक्षक जिले से रिलीव हो गए हैं। 
 
इस मामले में बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि जिले में आए 134 शिक्षकों को जनपद से कार्यमुक्त कर दिया गया है, जबकि एक शिक्षक अपनी स्वेच्छा से चंदौली जनपद में बकरार है।


 
कहा जा रहा है कि फिलहाल 134 शिक्षकों को गैर जनपद जाने से कुछ विद्यालय एकल हो गए हैं और इस सत्र की शिक्षा व्यवस्था भी बिगड़ सकती है। इनके जाने के बाद विद्यालयों में शिक्षकों का अभाव देखने को मिलने लगा है।

 इस संबंध में बेसिक शिक्षा अधिकारी सत्येंद्र कुमार सिंह ने बताया कि यह उच्च न्यायालय के दिए गए आदेश पर अधिकारियों के निर्देश पर इन सभी अध्यापकों को प्रथम चयनित जनपद में नियुक्ति का आवंटन को देखते हुए उन्हें पुनः उस जनपद के लिए वापस कर दिया गया है। अब शासनादेश के मुताबिक आगे की कार्रवाई की जाएगी।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*