जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
15 डेंगू मरीजों का चल रहा इलाज, लगातार बढ़ रही मरीजों की तादात, आप रहे सावधान
 


चंदौली जिले में डेंगू ने पांव पसार लिया है। पीडीडीयू नगर व विभिन्न अस्पतालों में 15 मरीज अपना इलाज करा रहे हैं। लगातार से बढ़ रहे रोगियों से नगर के लोग परेशान हैं। रेल यूनियन ने विभागीय अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया है तो नागरिक नगर पालिका प्रशासन पर सवाल उठा रहे हैं। अभी तक एक भी स्थान पर फागिग, मैलाथिन पाउडर व लिक्विड का छिड़काव न होने से लोग मच्छरजनित बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं।


बारिश के बाद डेंगू फैलता है। जुलाई से अक्टूबर तक इस रोग की संभावनाएं बनी रहती हैं। एक तो मौसम परिवर्तन दूसरे जगह-जगह जलजमाव के कारण मच्छरों की भरमार होती है। जिले के कुछ हिस्से ऐसे हैं जहां बारिश के बाद से अभी भी जलजमाव बना हुआ है। यह दीगर है कि डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैं और एडीज एजिप्टी नामक मादा मच्छर के काटने से डेंगू फैलता है। पर नगर की कालोनियों में गंदगी, जलजमाव से मच्छरजनित रोगियों की भी भरमार है। 


हालांकि रेलवे का चिकित्सा विभाग डेंगू से इनकार कर रहा है लेकिन दो दिन पूर्व ही रेलवे के एक शाखा अधिकारी भी डेंगू की पीड़ित होकर मंडलीय चिकित्सालय में अपना इलाज करा रहे हैं। इसी तरह रेलवे कालोनियों में रहने वाले 10 लोग डेंगू से पीड़ित हैं और उनका मंडलीय व प्राइवेट अस्पतालों में इलाज चल रहा है। 


बर्तनों में पानी ढंक कर रखे। कूलर में पानी जमा न रहने दें। उसकी नियमित सफाई करें। ड्राइ वाश बेसिन सिक, नालियां जहां भी धुलाई-सफाई का काम होता है, उस स्थान को साफ व सूखा रखें। बर्तन में पानी भरकर कभी न रखें। खराब हो चुकी वस्तुओं जैसे टायर, नारियल के खोल, बोतलें आदि को फेंक दें या नष्ट कर दें। छत, छज्जे पर भी बरसात का पानी जमा न होने दें। मच्छर मारने की दवाओं का प्रयोग करें। 


रेलवे का चिकित्सा विभाग भले ही यह दावा करे कि डेंगू के मरीज नहीं है पर रेल यूनियन के पदाधिकारी अधिकारियों से कई बार गुहार लगा चके हैं कि जर्जर आवास, रेल कालोनियों की बदतर स्थिति को सुधार जाए। जगह-जगह मकान जर्जर हैं, जलाव हो रहा, उसी में मच्छर पनप रहे हैं। ईस्ट सेंट्रल रेलवे कर्मचारी यूनियन ने 23 सितंबर को एइएन कालोनी के कार्यालय के समक्ष धरना जर्जर भवनों को सु²ढ़ कराने के लिए धरना देने की चेतावनी दी है। 


इस संबंध में रेलवे मंडलीय चिकित्सालय सीएमएस डाक्टर आरके मिश्रा ने बताया कि डेंगू के मरीज नहीं मिले हैं। सामान्य मरीज अस्पताल में भर्ती हैं। हालांकि कुछ लोग बाहर इलाज करा रहे, उन्हें कौन सा बुखार है, इसकी सूचना नहीं है। अस्पताल में डेंगू वार्ड तैयार है और सारी व्यवस्था की गई है।