जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
गोवंश आश्रय स्थलों की समीक्षा कर सीडीओ ने दिया सबको टारगेट, ऐसे करना है काम
चंदौली में पशुपालन विभाग की बुधवार को कलेक्ट्रेट सभागार में हुई बैठक में सीडीओ अजितेंद्र नारायण ने गोवंश आश्रय स्थलों में व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए आश्रय स्थलों में चारा, पेयजल, छाया की व्यवस्था करने के निर्देश देते हुए गर्मी के मौसम में चारे व पानी की व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए कहा।
 

अतिरिक्त शेड, भूसा, पानी व गर्मी से बचाव की व्यवस्था की जानी चाहिए

बीडीओ अपने-अपने ब्लाकों में गोवंश आश्रय स्थलों में सुविधाओं की समीक्षा करते रहें

चंदौली में पशुपालन विभाग की बुधवार को कलेक्ट्रेट सभागार में हुई बैठक में सीडीओ अजितेंद्र नारायण ने गोवंश आश्रय स्थलों में व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए आश्रय स्थलों में चारा, पेयजल, छाया की व्यवस्था करने के निर्देश देते हुए गर्मी के मौसम में चारे व पानी की व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए कहा। साथ ही सबको चेतावनी देते हुए कहा कि इसमें किसी तरह की लापरवाही मिली तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई तय है।

सीडीओ ने कहा कि प्रत्येक ब्लाक में पांच सौ क्विंटल भूसा की व्यवस्था का लक्ष्य रखा गया है। ऐसे में जिले के सभी नौ ब्लाकों में कुल 4500 क्विंटल भूसा की व्यवस्था की जानी है। सभी ब्लाकों के आश्रय स्थलों में भूसा का भंडारण किया जाना चाहिए। जिससे किसी समय चारे का संकट न हो।

मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि किसानों के खेतों में हार्वेस्टर से काटकर ढूंढ पड़ी हुई है। कृषि विभाग किसानों के साथ समन्वय स्थापित कर इसका इस्तेमाल भूसा बनाने में कर सकता है। इसके लिए संबंधित किसानों से अनापत्ति प्रमाणपत्र प्राप्त कर लें और उसके बटोर कर चारे के लिए अपने पास रखवा सकते हैं। 

मुख्य विकास अधिकारी ने  कहा कि शासन की ओर से 100 दिनों में एक हजार पशुओं को आश्रय स्थलों में संरक्षित रखने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए गोवंश आश्रय स्थलों में अतिरिक्त शेड, भूसा, पानी व गर्मी से बचाव की व्यवस्था की जानी चाहिए।

क्षेत्र पंचायत तथा जिला पंचायत की मदद से कैटल कैचर क्रय की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने हिदायत दी कि संबंधित विभाग गो संरक्षण की मुहिम में सहयोग करें। सभी बीडीओ अपने-अपने ब्लाकों में गोवंश आश्रय स्थलों में सुविधाओं की समीक्षा करते रहें। जहां कमी पाई जाए, उसे तत्काल दूर कराया जाना चाहिए। 

सीवीओ डा. एके वैश्य, डीपीआरओ ब्रह्मचारी दुबे, कृषि अधिकारी बसंत कुमार दुबे, समस्त एसडीएम, बीडीओ व सभी पशु चिकित्साधिकारी मौजूद रहे।