जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
गो-वंश संरक्षण सप्ताह में यह करते दिखेंगे लेखपाल व अन्य अधिकारी, देख लीजिए सरकार का आदेश
जिलाधिकारी ने बताया कि 1 जनवरी से 10 जनवरी 2022 तक 10 दिवसीय गोवंश संरक्षण अभियान विशेष अभियान के रूप में चलाकर गोवंश को निकटस्थ स्थायी/अस्थायी आश्रय स्थलों में संरक्षित किया जा रहा है।
 
10 दिवसीय गोवंश संरक्षण अभियान के लिए अब जिम्मेदारी बांट रहे हैं जिलाधिकारी, केवल 5 दिन में करना होगा काम

चंदौली जिले के जिलाधिकारी संजीव सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में निराश्रित/बेसहारा गो-वंश संरक्षण संबंधित बैठक संपन्न हुई। बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने बताया कि 1 जनवरी से 10 जनवरी 2022 तक 10 दिवसीय गोवंश संरक्षण अभियान विशेष अभियान के रूप में चलाकर गोवंश को निकटस्थ स्थायी/अस्थायी आश्रय स्थलों में संरक्षित किया जा रहा है।

अभियान के अंतर्गत हल्के के लेखपाल व ग्राम प्रधान प्रत्येक ग्राम पंचायत में सर्वे कर विचरण कर रहे निराश्रित पशुओं को आश्रम स्थल तक पहुंचाने के साथ ही इस आशय का प्रमाण पत्र भी देंगे कि उनके गांव में निराश्रित गो- वंश छुट्टा नहीं घूम रहे हैं। इसी प्रकार नगर निकायों द्वारा भी अपने क्षेत्र में विचरण करने वाले निराश्रित गोवंश को शत प्रतिशत एकत्रित करते हुए आश्रय स्थलों में संरक्षित करने की कार्यवाही अभियान चलाकर किया जाय। जिलाधिकारी ने कहा निराश्रित गोवंश, सहभागिता योजना एवं कुपोषण योजना के अंतर्गत संरक्षण हेतु इच्छुक व्यक्तियों को हस्तगत करवा दिए जाय। या संबंधित गो-आश्रय स्थलों में पहुंचा दिए जाय। गोवंश संरक्षित करवाएं गए गोवंश की टैगिंग एवं नर गोवंश का बधियाकरण अनिवार्य रूप से हो।

DM Chandauli Meeting For Gau Vansh

 पशुपालन विभाग के चिकित्सक यह सुनिश्चित करें कि आश्रय स्थल पर पशु की स्वास्थ्य परीक्षण दो दिन के अंतराल पर भ्रमण करते हुए सुनिश्चित हो। गो- आश्रय स्थल पर हरे-चारे, भूसा की उपलब्धता व पेयजल एवं विद्युत व्यवस्था सुनिश्चित किया जाए।

जिलाधिकारी ने बैठक के दौरान साफ शब्दों में निर्देश देते हुए कहा कि किसी भी दशा में गोवंश सड़कों/मार्गो तथा सार्वजनिक स्थानों या खेतों में विचरण करते हुए न पाए जाएं और किसी भी गोवंश की ठंड के कारण मृत्यु न हो ठंड एवं सामान्य बीमारियों से बचाव हेतु पशुपालन विभाग कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करें। सुपुर्दगी वाले पशुपालकों की भुगतान लंबित न रखा जाए। प्रतिमाह भुगतान सुनिश्चित हो।

जिलाधिकारी ने क्षेत्राधिकारी सदर को निर्देशित करते हुए कहा कि गाजीपुर व वाराणसी से आने वाले रास्तों में रात्रि में पुलिस पेट्रोलिंग को निर्देशित किया जाए कि निराश्रित गोवंश जनपद में कोई न छोड़कर जाएं। जिलाधिकारी ने कहा कि चारा खरीद के लिए समय से डिमांड कर दिया जाए ताकि भुगतान होता रहे पैसे के अभाव में चारा न खरीदने की शिकायत कतई बर्दाश्त नहीं होगी। सकारात्मक सोच के साथ कार्य करें आश्रय स्थल पर साफ-सफाई निरंतर कराया जाए मा0 मुख्यमंत्री जी की प्राथमिकता में यह योजना है, जिसकी स्वंय मॉनिटरिंग भी करते रहते हैं समय-समय पर।
        

बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी अजितेंद्र नारायण, अपर जिलाधिकारी उमेश मिश्रा, उप जिलाधिकारी सदर व सकलडीहा/ क्षेत्राधिकारी सदर, जिला पंचायत राज अधिकारी सहित नोडल अधिकारी उपस्थित थे।