जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
शिवोय हॉस्पिटल के निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर में 148 मरीजों की जांच पड़ताल
चंदौली जिले के नवनिर्मित शिवोय हॉस्पिटल में रविवार को निःशुल्क हड्डी, जोड़ एवम् नस संबंधी रोगों की जांच व सलाह के लिए निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया।
 

अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संजय कुमार त्रिपाठी दे रहे हैं अपनी सेवाएं

इन बीमारियों का यहां होगा उपचार

 

चंदौली जिले के नवनिर्मित शिवोय हॉस्पिटल में रविवार को निःशुल्क हड्डी, जोड़ एवम् नस संबंधी रोगों की जांच व सलाह के लिए निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। यहां पर अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संजय कुमार त्रिपाठी ने सैकड़ों मरीजों को बीमारियों से संबंधित जानकारी व उपचार के तरीके समझाते हुए निशुल्क दवाएं उपलब्ध करायीं। जिले में अस्थि रोग से संबंधित उपचार का एक बेहतरीन अस्पताल बन रहा है, जहां पर सस्ते दर पर गंभीर रोगों का उपचार संभव है।

बताया जा रहा है कि इनके यहां आयोजित स्वास्थ्य शिविर में 148 हड्डी, जोड़ एवम् नस रोग से संबंधित मरीजों ने स्वास्थ्य परीक्षण एवं निशुल्क दवा का लाभ उठाया। साथ ही दवा के साथ साथ बरती जानी वाली सावधानियों के बारे में जानकारी ली।

Shivoy Hospital Chandauli


 
डॉ. संजय कुमार त्रिपाठी ने कहा कि हड्डी, जोड़ एवम् नस रोग संबंधित बचाव एवं अत्याधुनिक उपचार के तरीकों की जानकारी देते हुए कहा कि उनके अस्पताल में बच्चों के जन्मजात टेढ़े मेढ़े पैरों का इलाज भी बिना ऑपरेशन के प्लास्टर द्वारा संभव है। यह सुविधा चंदौली जिले में देने वाले चिकित्सक हैं। इसके लिए कभी भी बच्चों के माता-पिता या परिजन उनसे संपर्क कर सकते हैं।

इस मौके पर डॉ. संजय कुमार त्रिपाठी ने कहा कि हड्डी दर्द या उससे संबंधित अन्य बीमारियों का मुख्य कारण गलत खानपान, पोस्चर एवम् कैल्सियम व विटामिन डी की कमी होती है, जिसे दवाओं के साथ साथ उचित खानपान व चिकित्सकीय परामर्श से सुधारा जा सकता है।  

Shivoy Hospital Chandauli

डॉ. संजय कुमार त्रिपाठी ने कहा कि अच्छे खानपान, सुबह शाम सूरज की रोशनी में बैठने, नियमित व्यायाम करने जैसी आदतों से भी इस तरह की बीमारियों से बचा जा सकता है।

Shivoy Hospital Chandauli

आपको बता दें कि यहां पर सेवा दे रहे चिकित्सक अलीगढ़ विश्वविद्यालय से डिग्री हासिल करने के बाद मुंबई के चर्चित लीलावती अस्पताल में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। वह चंदौली जिला अस्पताल में दो साल तक अपनी सेवाएं देने के साथ साथ कोरोना के समय में चंदौली जिले के सरकारी अस्पताल में तमाम सुविधाओं को विस्तारित करने में सराहनीय भूमिका निभायी है।