जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
आशू ने शादी के बहाने गांव की लड़की को किया अगवा, गाजियाबाद ले जाकर करता रहा रेप
आशू कुमार ने पहले तो उसे किसी अन्य स्थान पर रखा है फिर कुछ दिनों बाद उसे गाजियाबाद ले गया और वहां पर किराया का कमरा लेकर रहने लगा। वह अक्सर किशोरी को कमरे में ही बंद करके ही रखता था।
 

लड़की भगाने व रेप करने का दर्ज हुआ मुकदमा, आशु व उसके भाई के खिलाफ मुकदमा, एसपी के आदेश पर कोतवाली को लिखनी पड़ी FIR

 

चंदौली जिले की मुगलसराय कोतवाली क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली एक किशोरी ने अपने ही गांव के दो भाइयों पर 3 महीने तक बंधक बनाये रखने और रेप करने का आरोप लगाया है। किसी तरह से उनके चंगुल से भागकर अपने गांव पहुंचने के बाद जब वह अपनी मां को अपनी पूरी कहानी बतायी तो मां उसे लेकर पुलिस थाने पहुंचकर मुकदमा दर्ज कराने की कोशिश की। लेकिन कोतवाली पुलिस ने पहले तो मुकदमा दर्ज करने में आनाकानी की, लेकिन जब मामला पुलिस अधीक्षक अंकुर अग्रवाल के पास पहुंचा तब जाकर मुगलसराय कोतवाली में मुकदमा दर्ज हुआ।

मामले में बताया जा रहा है कि पीड़िता की मां ने पुलिस थाने में तहरीर देकर बताया है कि उनकी बेटी 4 मार्च को शौच के लिए घर से बाहर गई थी। उसी दौरान गांव के ही रहने वाला अशोक कुमार उसे शादी का झांसा देकर बहला-फुसलाकर अपने साथ लेकर गया। पहले तो मां ने अपनी बेटी की बहुत खोजबीन की, लेकिन कुछ नहीं पता चला। 

मां बेटी ने आरोप लगाया कि उसे आशू कुमार ने पहले तो उसे किसी अन्य स्थान पर रखा है फिर कुछ दिनों बाद उसे गाजियाबाद ले गया और वहां पर किराया का कमरा लेकर रहने लगा। वह अक्सर किशोरी को कमरे में ही बंद करके ही रखता था। इस दौरान उसका जमकर यौन शोषण करता था। इतना ही नहीं आसू की गैर हाजिरी में उसका छोटा भाई भी उसके साथ रेप किया करता था।

 किशोरी ने बताया कि एकदिन मौका पाकर वह दोनों भाइयों के चंगुल से भाग निकली और ट्रेन पकड़ कर 5 जून को अपने घर जा पहुंची। इसके बाद उसने अपनी मां को पूरी आपबीती सुनाई। घटना की जानकारी होने के बाद  उसकी मां उसे लेकर मुगलसराय कोतवाली पहुंची, जहां पर पहले पुलिस मुकदमा दर्ज करने में आनाकानी करती रही। जब वह महिला ने पुलिस अधीक्षक अंकुर अग्रवाल को प्रार्थना पत्र देकर अपनी गुहार लगायी तो उनके आदेश पर मुगलसराय कोतवाली में मामला दर्ज किया गया है।

 इस बारे में कोतवाल बृजेश तिवारी ने बताया कि किशोरी का मेडिकल मुआयना कराने के साथ ही सभी संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। विवेचना के आधार पर धाराएं बढ़ाई जाएंगी और कार्यवाही भी की जाएगी। फिलहाल थाना मुगलसराय में मु0अ0सं0- 199/2022 धारा 363/342 IPC का अभियोग पंजीकृत किया गया है। जिसमें विवेचनात्मक कार्रवाई तथा पीड़िता का मेडिकल परीक्षण, 164 Crpc में बयान कराने सहित अन्य आवश्यक विधिक कार्रवाई प्रचलित है।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*