जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
हिंदवारी के रहने वाले रेलवे ठेकेदार विभूति नारायण सिंह ने की गोली मारकर आत्महत्या
प्रयागराज के यमुनापार इलाके के औद्योगिक क्षेत्र थाने के नेवादा समोगर गांव के पास एक अपार्टमेंट में रहने वाले रेलवे के ठेकेदार ने लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या के दौरान वह अपनी से वीडियो कॉल कर रहे थे। वैसे तो प्रथम दृष्टया मामला घरेलू विवाद से जुड़ा बताया जा रहा है
 
रेलवे के ठेकेदार ने लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली

प्रयागराज के यमुनापार इलाके के औद्योगिक क्षेत्र थाने के नेवादा समोगर गांव के पास एक अपार्टमेंट में रहने वाले रेलवे के ठेकेदार ने लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या के दौरान वह अपनी से वीडियो कॉल कर रहे थे। वैसे तो प्रथम दृष्टया मामला घरेलू विवाद से जुड़ा बताया जा रहा है। जांच के बाद आगे की कार्रवाई की बात पुलिस के द्वारा कही जा रही है।

मूल रूप से चंदौली के हिंदवादी अलीनगर निवासी विभूति नारायण सिंह (47) पुत्र हंस नारायण सिंह रेलवे में ठेकेदारी करते थे। वह फिलहाल प्रयागराज के औद्योगिक थाना क्षेत्र के नेवादा समोगर गांव के पास नारायण अपार्टमेंट में रहते थे। जबकि उनका परिवार चंदौली में रहता है। पत्नी वंदना और तीन बच्चे यश, प्रवीण और सनी चितईपुर में रहते हैं।

 बताया जा रहा है कि कि गुरुवार की रात काफी देर तक विभूति शराब पीते रहे। उनके साथ उनका सुपरवाइजर जितेंद्र मिश्रा और इंद्रजीत यादव भी थे। ये दोनों थोड़ी बाद चले गए। तभी अपार्टमेंट में रह रहे लोगों ने अचानक गोली चलने की आवाज सुनी। भागकर कमरे की तरफ पहुंचे। दरवाजा अंदर से बंद था। दरवाजा तोड़ा गया तो वह खून से लतपथ मिले। उन्हें अस्पताल ले जाया जाता तब तक उनकी सांसें थम गईं।

प्रयागराज के औद्योगिक क्षेत्र थाना के थाना प्रभारी संजीव चौबे का कहना है कि वह शराब पीए हुए थे। जिस समय घटना हुई उस समय वह पत्नी वंदना से वीडियो कॉल पर बात कर रहे थे। एसओ के अनुसार परिवार में उनके दो भाई और हैं, पता चल रहा है कि दोनों भाइयों से किसी मामले को लेकर विवाद चल रहा था, जिससे वह इधर काफी परेशान थे। मामले की जांच के बाद आत्महत्या की सही वजह सामने आ सकेगी।