जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
छठ पूजा 2022 : यह है अर्घ देने का सबसे सही समय व तरीका, आप भी जरूर रखें ध्यान
 हालांकि यह त्यौहार पूर्वी उत्तर प्रदेश बिहार झारखंड सहित तमाम राज्यों में काफी जोर शोर से मनाया जाता है लेकिन यह अब धीरे-धीरे अन्य शहरों और राज्यों में भी मनाया जाने लगा है।
 


 
पूरे देश की तरह चंदौली जिले में छठ पूजा का महापर्व शुरू हो गया है। दीपावली के त्यौहार के 6 दिन बाद मनाया जाने वाला यह महापर्व हिंदू धर्म में एक बड़ा पर्व माना जाता है। हर साल छठ का पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है। इस दौरान महिला-पुरुष भगवान सूर्य व छठ माता की उपासना करते हैं।

वैसे तो यह पर्व विशेष रूप से स्त्रियों के आस्था का केंद्र होता है, लेकिन इसको पुरुष भी मनाते हैं। इस दिन स्त्रियां अपने बच्चों की लंबी उम्र के साथ-साथ परिवार की खुशहाली व स्वास्थ्य की कामना करती हैं। हिंदू धर्म में यह कठिन उपवास वाले पर्वों में से एक माना जाता है। 4 दिन तक चलने वाले इस महापर्व के दौरान 36 घंटे तक निर्जला व्रत रखकर इसकी पूजा की जाती है।

 हालांकि यह त्यौहार पूर्वी उत्तर प्रदेश बिहार झारखंड सहित तमाम राज्यों में काफी जोर शोर से मनाया जाता है लेकिन यह अब धीरे-धीरे अन्य शहरों और राज्यों में भी मनाया जाने लगा है। आज छठ पर्व का पहला अर्घ दिया जाएगा। इसलिए आपको जानना जरूरी है कि इसके लिए सबसे सही मुहूर्त और नियम क्या है.. 


30 अक्टूबर 2022 को शाम का सूर्य अर्घ्य दिया जाएगा। इस दिन सूर्यास्त का समय शाम 05:38 बजे है। वहीं 31 अक्टूबर 2022 को सुबह का सूर्य अर्घ्य देने की तिथि है। इस दिन सूर्योदय सुबह 06:32 मिनट पर होगा। 

30 अक्टूबर - शाम का सूर्य अर्घ्य : शाम 05:38
31 अक्टूबर- सुबह का सूर्य अर्घ्य : सुबह 06:32

ऐसे में सूर्यास्त और सूर्योदय से पहले अर्घ्य देने से बचना है। सही समय पर अर्घ्य देने के लिए ताम्र का पात्र ही उपयोग में लाएं। अपनी सुविधा के अनुसार दूध और जल से अर्घ्य देने की तैयारी रखें।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*