जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा में स्नान के लिए उमड़ी भीड़, दान पुण्य भी करते रहे लोग
हिंदू धर्म में पूर्णिमा तिथि पर पवित्र नदियों में स्नान करने का विशेष महत्व माना गया है। मान्यता के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा पर देवता पृथ्वी पर आकर गंगा में स्नान करते हैं। इसलिए इस दिन गंगा स्नान अवश्य करना चाहिए।
 
चंदौली जिले में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर मंगलवार को हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने बलुआ स्थित पश्चिम वाहिनी गंगा तट पर आस्था की डुबकी लगाते हुए दान पुण्य भी किया। कार्तिक पूर्णिमा के कारण भोर से ही स्नान दान का सिलसिला शुरू हो गया था। सामर्थ्य के अनुसार गंगा में डुबकी लगाने वाले लोगों ने जरूरतमंदों को अन्न वस्त्र आदि का दान किया। इस दौरान गंगा घाटों पर मेले जैसा माहौल रहा। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस भी गंगा घाट पर तैनात रही।


कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को परम्परानुसार श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान के बाद दान पुण्य का काम किया। हिंदू धर्म में पूर्णिमा तिथि पर पवित्र नदियों में स्नान करने का विशेष महत्व माना गया है। मान्यता के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा पर देवता पृथ्वी पर आकर गंगा में स्नान करते हैं। इसलिए इस दिन गंगा स्नान अवश्य करना चाहिए। गंगा स्नान कर पाने में असमर्थ लोगों ने पानी में गंगाजल डालकर घर में ही स्नान किया। स्नान के बाद क्षमतानुसार अन्न, वस्त्र का दान भी किया।

कहा जाता है कि पूर्णिमा तिथि पर चावल का दान करना बहुत ही शुभ होता है। ज्योतिष के अनुसार पूर्णिमा तिथि पर दान करने से विशेष पुण्य की प्राप्ति होती है और घर में सुख और लक्ष्मी का वास होता है। गंगा स्नान के दौरान बलुआ सहित रौना, कांवर, कैली, महुअर, टांडाकला, तिरगावां, निधौरा, सहेपुर आदि गंगा घाटों पर सैकड़ों श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही। अप्रिय घटना होने से बचाने व सुरक्षा व्यवस्था के दृष्टिगत बलुआ इंस्पेक्टर राजीव कुमार सिंह भी फोर्स के साथ डंटे रहे। उनके साथ महिला पुलिस, प्राइवेट गोताखोर घाट पर मौजूद रहे।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*