जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
नाले में जलकुंभी फैलने से 1 हजार एकड़ खेत जलमग्न, केमिकल से खेत होते जा रहे बंजर

समस्या को पूर्व ब्लाक प्रमुख सपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल को अवगत कराया तो सपा नेता ने मौके पर पहुंचकर जिला प्रशासन से जलकुंभी हटाने के लिए तत्काल मांग की।

 

सपा नेता बाबूलाल यादव की मांग, जलकुंभी हटाकर करायी जाय नाले की सफाई, किसानों की जमीन बचाने के लिए जागें अफसर व राजनेता

चंदौली जिले के नियमताबाद क्षेत्र में नइंडस्ट्रियल एरिया फेस 2 से निकलने वाला गंदा पानी नाला के माध्यम से चंदरखा,गौरी गांव होते हुए गडई नदी में जाकर मिलता है। नाले में जलकुंभी लग जाने से पानी जाम हो गया है, जिससे दर्जन भर गांवों के सिवान पूरी तरह जल मग्न हो गये हैं।


बताते चलें कि क्षेत्र के गौरी, बिलारीडीह, गंगेहरा  बौरी, नदेसर नियमताबाद, सिरसी, भरछा, रामपुर, चन्दरखा सहित लगभग एक हजार एकड़ खेतों की नर्सरी बर्बाद हो रही है। वहीं किसानों ने अपनी समस्या को पूर्व ब्लाक प्रमुख सपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल को अवगत कराया तो सपा नेता ने मौके पर पहुंचकर जिला प्रशासन से जलकुंभी हटाने के लिए तत्काल मांग की।

आपको बता दें कि इंडस्ट्रियल एरिया फेस 2 से निकलने वाला गंदा नाला क्षेत्र से होते हुए गड़ई नदी में जाकर गिरता है। पूरे नाले में जल कुंभी फैल गयी है, जिस कारण गंदा पानी आगे नहीं जा पा रहा है। नाले का पानी पूरे सिवान के खेतों में जमा होने लगा है, जिससे बीया जलने के कगार पर पहुंच गयी है। बहुत से खेत ऐसे हैं जो जोते भी नहीं जा पा रहे हैं।

SP Leader Babulal Yadav

 किसानों ने बताया कि पहले इन्डट्रियल एरिया का पानी गंगा में जाता था। जिससे किसानों को कोई परेशानी नहीं होती थी। अब यह किसानों के लिए परेशानी का सबब बन रहा है।

पूर्व प्रमुख बाबूलाल ने कहा कि फैक्ट्री का केमिकल युक्त पानी आने से जमीन उसर हो रही है। यही हाल रहने पर आने वाले दिनों में खेतों में उपज नहीं होगी। नाले के पानी से फसलें जलमग्न हो गई हैं। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता बाबूलाल ने जिला प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराते हुए तत्काल जल कुंभी हटाने की मांग की है, जिससे किसानों की फसल डूबने से बचायी जा सके।

इस अवसर पर पूर्व प्रमुख बाबूलाल यादव, प्रेमनाथ तिवारी, पूर्व प्रधान मार्कंडेय बिंद, मुन्नालाल, छांगुर सहित काफी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*