जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
नीमा की सेमिनार में कई गंभीर रोगों पर विशेषज्ञों ने दी राय, सीएमओ भी रहे शामिल
ब्रेन स्ट्रोक  एक तरह का ब्रेन के अंदर अचानक से होने वाला अटैक है , जो मस्तिष्क को खून की आपूर्ति करने वाली रक्त वाहिका के फटने से या दिमाग की नसों में खून का बहना रुकने (ब्लॉकेज) के कारण होता है।
 

नेशनल इंटीग्रेटेड मेडिकल एसोसिएसन की पहल

कई विशेषज्ञों ने शेयर किए अपने अनुभव

चंदौली जिले में नेशनल इंटीग्रेटेड मेडिकल एसोसिएसन (नीमा) के सौजन्य से नगर के एक होटल में शनिवार को बृहद सेमिनार का आयोजन हुआ, जिसके मुख्य अतिथि सीएमओ डॉ वाई के राय ने कहा कि ऐसी कार्यक्रमों से चिकित्सकीय ज्ञान बढ़ता है इसके लिए नीमा संस्था की  सराहना की। अग्रिम हॉस्पिटल वाराणसी के सुप्रसिद्ध चिकित्सक डॉ अविनाश चंद्र सिंह न्यूरो फिजिसियन, डॉ एस एस बेहरा क्रिटिकल केयर, डॉ उत्सव सावरिया चेस्ट रोग प्रमुख वक्ताओं में शामिल रहे।

NIMA Seminar


मौके पर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ वाई के राय एवम समाज सेवी सतीश जिन्दल ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर  डॉ अविनाश चंद्र सिंह ने बताया कि ब्रेन स्ट्रोक  एक तरह का ब्रेन के अंदर अचानक से होने वाला अटैक है , जो मस्तिष्क को खून की आपूर्ति करने वाली रक्त वाहिका के फटने से या दिमाग की नसों में खून का बहना रुकने (ब्लॉकेज) के कारण होता है। दरअसल, किसी भी कारण से जब ब्रेन का ब्लड सर्कुलेशन प्रभावित हो जाता है तो स्ट्रोक आ जाता है।

 सुप्रसिद्ध चेस्ट रोग विशेषज्ञ डॉ उत्सव सावरिया ने सीओपीडी पर अपना वक्तव्य दिया और बताया कि क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज यह एक फेफड़ों से सम्बन्धित बीमारी है। इसमें साँस नाली में नाक से फेफड़ों के बीच सूजन हो जाती है जिससे ऑक्सीजन की पूर्ति नहीं हो पाती है । इस समस्या में लम्बे समय से बलगम के साथ या बिना बलगम के खांसी होना, गले एवं सीने में घरघराहट सांस की कमी महसूस होना, शारीरिक श्रम करने पर अधिक थक जाना एवं साँस में तकलीफ होना, छाती में जकड़न, पैरों  में सूजन आदि के लक्षण देखे जाते हैं।इस समस्या में हम ऐसा आहार लेना ज़रूरी होता है जिससे पोषण की सभी ज़रूरतों को तो पूरा किया जा सके लेकिन श्वांस को भी ठीक रखा जा सके इस समस्या में लम्बे समय तक स्टेरॉइड्स के इस्तेमाल के कारण शरीर में कैल्शियम, विटामिन डी एवं पोटैशियम की कमी हो जाती है, इस कारण भोजन में इनकी मात्रा ठीक रखना आवश्यक है। इसके साथ साथ डॉ एस एस बेहरा ने क्रिटिकल केयर पर प्रकाश डाला ।

NIMA Seminar


 इस अवसर पर  प्रदेश प्रवक्ता डॉ ओपी सिंह ने सबका स्वागत किया। इस अवसर पर डॉ जे ए खान, डॉक्टर ए के सिंह, डॉ मनोज सिंह डॉ संतोष शर्मा, डॉ यस बी सिंह, डॉ राजेश श्रीवास्तव, डॉ शिवाजी सिंह, डॉ अनुज पाण्डेय, डॉ अंकित सिंह, डा सीबी सिंह, डॉ संजय यादव, डॉ सलाम, डॉ उपेंद्र, सिंह, डॉ सुनील सिंह, डॉ स्वेता सिंह, डॉ हुजैफा, डॉ मुमताज, डॉ इंद्रजीत, डॉ बिलाल, डॉ पवन, डॉ एस पी सिंह, डॉ धर्मेंद्र श्रीवास्तव, डॉ एके राय, डॉ विजयानंद तिवारी, डॉ नरेश इत्यादि लोग थे।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*