जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय के गेट पर राशन मिलने से मचा हड़कंप, मामले की हो रही है जांच
अधिकारियों ने छात्राओं से मेनू में दिए जाने वाले भोजन व प्रतिदिन घर से आने-जाने वाली छात्राओं से पूछताछ की। मौके पर कुछ गांव के लोगों ने कई बार राशन को बाहर जाने का आरोप लगाया है। 
 

कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय नौगढ़ का मामला

बाजार में राशन बेचे जाने का आरोप

पहले भी मिल चुकी है शिकायत
 

चंदौली जिले के नौगढ़ इलाके के कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय नौगढ़ की  वार्डन और सुरक्षा गार्ड की मिलीभगत से छात्राओं का राशन बाजार में बेचने का मामला प्रकाश में आया है। बाउंड्री वॉल के दक्षिण तरफ बोरियों में भरकर रखे राशन को देख गांव के लोगों ने तहसीलदार सुरेश चंद्र को सुबह जानकारी दी। इस मामले में बेसिक  शिक्षा विभाग के अधिकारी अब बचाव के लिए लीपापोती में जुट गए हैं। जबकि भाजपा के पूर्व मंडल अध्यक्ष आनंद कुमार गुप्ता ने वार्डन और सुरक्षा गार्ड पर राशन ब्लैक करने के आरोप लगाए हैं। 

Kasturaba Gandhi School

बताया जाता है कि शुक्रवार को सुबह 8 बजे के करीब बोरी में कुछ सामान चाहरदीवारी के बाहर रखा हुआ था। लोगों को शक हुआ तो लोग नजदीक जाकर देखने लगे, इस दौरान शोरगुल के बाद  वार्डन संजू सिंह भड़क गई और इसे साजिश बताया। गांव के  लोगों ने इसकी सूचना तहसीलदार सुरेश चंद्र को दी। तहसीलदार ने पुलिस को सूचना देकर राशन सुरक्षित करा दिया और संबंधित अधिकारियों को सूचना देते हुए मौके पर पहुंचे। 

इसके कुछ देर बाद खंड विकास अधिकारी सुदामा यादव और एबीएसए नागेंद्र सरोज भी पहुंच गए। अधिकारियों ने वार्डन से सारी जानकारी ली। संतुष्ट ना होने पर सुरक्षित रखे अनाज की जांच की। बताया जा रहा है कि इसमें छात्राओं के लिए बनाए जाने वाले भोजन का राशन, आटा, चावल, और तथा पॉलिथीन में अरहर, उड़द, मूंग की दाल और चना  निकला अधिकारियों ने छात्राओं से मेनू में दिए जाने वाले भोजन व प्रतिदिन घर से आने-जाने वाली छात्राओं से पूछताछ की। मौके पर कुछ गांव के लोगों ने कई बार राशन को बाहर जाने का आरोप लगाया है। 

Kasturaba Gandhi School

नौगढ़ में ही स्थापित दूसरे कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय वनगांव मझगांई में काफी पहले वार्डन के पति को राशन ले जाते हुए पकड़ा गया था और उस समय के अधिकारियों ने चेतावनी देकर मामले को ठंडा कर दिया था। एकबार फिर से मामले ने तूल पकड़ा है।

मामले में एबीएसए नागेंद्र सरोज ने कहा है कि बोरियों में आटा चावल और पॉलिथीन में चना मूंग उड़द की दाल पाए गए हैं। लेकिन स्टाक और मीनू के मिलान पर राशन विद्यालय का नहीं है। सच्चाई का पता लगाने हेतु अभी इसकी जांच पड़ताल की जा रही है।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*