जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
रिवाल्वर दिखाकर धमकाने वाली की नहीं हुयी गिरफ्तारी, चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मियों में आक्रोश
यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की गली में अवैध रूप से संचालित अस्पताल की जांच पड़ताल करने गए चिकित्सकों की टीम को प्रबंधक और उसके साथी द्वारा रिवाल्वर दिखाकर आतंकित किया गया था।
 

सीएचसी नौगढ़ पर जड़ा ताला और करने लगे नारेबाजी

ओपीडी सेवा ठप होने से मरीज और उनके परिजन रहे हलकान  
 

चंदौली जिले के नौगढ़ इलाके में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नौगढ़ के चिकित्सा अधीक्षक को रिवॉल्वर से धमकाने के मामले में 72 घंटे बाद भी निजी अस्पताल के संचालक और उसके साथी की गिरफ्तारी न होने से स्वास्थ्य कर्मियों में आक्रोश व्याप्त है। आरोपियों की गिरफ्तारी न होने पर चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मियों ने ओपीडी सेवा बंद करते हुए गेट पर ताला जड़ दिया और धरने बैठ गए। 

मामले की जानकारी होने पर सीओ आपरेशन कृष्ण मुरारी शर्मा और थाना प्रभारी दीनदयाल पांडेय ने  समझा-बुझाकर विवेचना में आरोपियों के विरुद्ध धारा बढ़ाने के आश्वासन पर धरना समाप्त कराया। इस दौरान स्वास्थ्य कर्मियों ने चेतावनी दी कि गिरफ्तारी न होने पर सभी सरकारी अस्पतालों में ओपीडी सेवा बंद कर दी जाएगी। स्वास्थ्य कर्मी सरकारी कोई कार्य नहीं करेंगे। 

9 सितंबर को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की गली में अवैध रूप से संचालित अस्पताल की जांच पड़ताल करने गए चिकित्सकों की टीम को प्रबंधक और उसके साथी द्वारा रिवाल्वर दिखाकर आतंकित किया गया था। तहरीर पर थाना पुलिस ने प्रबंधक और उसके साथी के खिलाफ संगीन धाराओं की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। मुकदमा के बाद दोनों आरोपी भूमिगत हैं।

 
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नौगढ़ के सभी चिकित्सक, महिला स्टाफ नर्स, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी व अन्य कर्मचारियों ने ओपीडी को बंद करने के साथ ही मुख्य  गेट पर ताला जड़कर धरने पर बैठ गए। इस दौरान आक्रोशित स्वास्थ्य कर्मियों ने नारेबाजी करते हुए जमकर विरोध प्रदर्शित किया। नाराज स्वास्थ्य कर्मियों ने इमरजेंसी व ओपीडी में पूरे दिन कोई कार्य नहीं होने दिया। विरोध प्रदर्शन के चलते दूरदराज से आने वाले मरीजों व तीमारदारों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। घंटों बाद पहुंचे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डॉक्टर अवधेश पटेल ने काफी समझाने बुझाने का प्रयास किया, लेकिन सभी कर्मचारी अपनी जिद पर अड़े रहे। अंतत: सीओ ऑपरेशन के आश्वासन पर आंदोलित कर्मचारी धरना समाप्त किए। 


धरने में मुख्य रूप से डॉ शशि भूषण, डॉ सुनील, डॉ आशीष शुक्ला, डॉ अवनीश, डॉ गंगाराम भारती, डॉ दिनेश, डॉ नीरज के अलावा हेल्थ ऑफिसर उमेश कुमार, स्टाफ नर्स स्नेह लता, बसंती, धर्मशिला, सुशीला व स्वास्थ्य कर्मी मौजूद रहे।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*