जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
नौगढ़ में रामकथा का आयोजन, सती प्रसंग और भगवान राम की परीक्षा की सुनायी कथा
हम रामचरितमानस का अनुसरण नहीं कर रहे हैं, जिससे हमारी संस्कृति कमजोर होती जा रही है। हमारी सनातन संस्कृति बेजोड़ है, जो पूरे विश्व का ध्यान आकर्षित करती है।
 

नौगढ़ दुर्गा मंदिर पोखरे पर सात दिवसीय संगीतमय श्री राम कथा

योगेश्वर राधेश्याम गिरी सुना रहे हैं कथा

चंदौली जिले के तहसील नौगढ़ में दुर्गा मंदिर पोखरा पर रमैया धाम के स्वामी देवेंद्रानन्द के सानिध्य में चल रही संगीतमय रामकथा के दूसरे दिन शनिवार को जौनपुर से पधारे योगेश्वर राधेश्याम गिरी ने कहा कि  पाश्चात्य संस्कृति इतनी प्रभावी हो गई है कि हम अपनी संस्कृति को भूलते जा रहे हैं। हम रामचरितमानस का अनुसरण नहीं कर रहे हैं, जिससे हमारी संस्कृति कमजोर होती जा रही है। हमारी सनातन संस्कृति बेजोड़ है, जो पूरे विश्व का ध्यान आकर्षित करती है। कहा कि राम के आदर्शों की बात तो हम करते हैं, लेकिन राम के आदर्शों को अपने जीवन में नहीं उतारते। अगर ऐसा हम करते हैं तो समझो मेरा जीवन सुधर जाएगा।


मानस की पंक्ति में कथा प्रसंग में सती के संशय की विस्तार से चर्चा करते हुए योगेश्वर राधेश्याम ने कहा कि जिस समय भगवान शंकर अपनी भार्या सती के साथ सत्संग के बाद अगस्त मुनि के आश्रम से लौट रहे थे उसी समय त्रेता युग में राम सीता हरण से व्याकुल हो  जहां-तहां सीता की खोज में  विलाप कर रहे हैं, वहीं रास्ते से भगवान राम की परीक्षा लेने सती जा रही हैं। भगवान शंकर कहते हैं कि हे सती देखो मर्यादा पुरुषोत्तम राम लीला कर रहे हैं। पार्वती को शंकर जी मना करते हैं फिर भी वे नहीं मानती। सती सीता के वेष में आकर राम के सामने खड़ी हो जाती हैं। भगवान राम ने हाथ जोड़ते हुए कहा कि माता प्रणाम आप जंगल में कहां घूम रही हैं। यह सुनकर सती के पैरों तले जमीन खिसक जाती है तथा अपने किए पर काफी पश्चाताप करती हैं।

कथा में भगवान शिव कहते हैं सती आप बार-बार झूठ बोल रही हैं तो अब इस शरीर से आप का भेंट असंभव है। उन्होंने सती का पत्नी के रूप में परित्याग करने का प्रण कर लिया। कथा को विश्राम देते हुए भजन सुनाया कि हरिनाम नहीँ तो जीना क्या, छोड़ उसे विष पीना क्या सुनाकर सबको भक्ति के सागर में डूबो दिया। कथा के अंत में आरती प्रसाद वितरण हुआ।


रामकथा के मुख्य यजमान शिवनारायण जायसवाल व  सुनीति रामायणी ने भगवान की आरती करने के बाद सबको प्रसाद वितरण किया। इस मौके पर प्रमुख रूप से शांति देवी, व्यापार मंडल के अध्यक्ष सूरज केसरी, कांता जायसवाल, गुलाब केसरी, रमेश उर्फ पप्पू केशरी शंकर सोनी, राजू पांडे समेत भारी संख्या में कथा प्रेमी मौजूद रहे।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*