जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
देखिए वीडियो...नौगढ़ जंगल में चलती है कोइलरवा हनुमान की सरकार, पांच दिवसीय मेला प्रारंभ

संकट कटै, मिटै सब पीड़ा... जो सुमिरे हनुमत बलबीरा... रामचरितमानस के अनुसार माता सीता ने उन्हें अजर- अमर का वरदान दिया हुआ है। शास्त्रों में भी हनुमानजी के अमर होने के सबूत हैं।  तहसील नौगढ़ के  गुठौली नामक घनघोर जंगल में पहाड़ों के बीच हनुमान का  प्राचीन मंदिर है। मान्यता है कि यहां पर हनुमान जी बाल रूप में साक्षात विराज रहे है और यहां आने वाले सभी भक्तों के संकट वो पल भर मे हर लेते है।

 

कोइलरवा हनुमान जी की सरकार चलती है, यहां...

सच्चे दिल से जो भक्त उनका ध्यान करते है वो उन्हें दर्शन देते है।

चंदौली जिले की तहसील  नौगढ़ में कोइलरवा हनुमान जी की सरकार चलती है, यहां आकर जिसने भी उनका आशीर्वाद ले लिया, उसकी हर कामना हनुमान जी महाराज पूर्ण करते है। तभी तो, जो भक्त एक बार कोइलरवा हनुमान के दर्शन कर लेता है वो यहां बार- बार आने को आतुर रहता है।

बताते हैं कि सच्चे दिल से जो भक्त उनका ध्यान करते है वो उन्हें दर्शन देते है। भूत- प्रेत बाधाएं हो या किसी भी तरह का संकट हो, यहां आने मात्र से सब ठीक हो जाता हैं। अगर आप भी कोइलरवा हनुमान जी के दर्शन करने करने हेतु जाना चाहते हैं तो वहां के कुछ नियमो का पालन अवश्य करे। जितने भी समय आप संकट मोचन धाम पर रहे, पूर्ण रूप से सात्विक आहार ले। मांस, मदिरा का सेवन बिलकुल नही करे। कहते है इस धाम से कोई भी भक्त खाली हाथ नहीं लौटता हैं। 

प्रधान यशवंत सिंह यादव बताते हैं कोइलरवा हनुमान जी  महाराज सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते है। यहां तक कि इस दरबार मे आने वाला नास्तिक भी आस्तिक बन जाता है। दक्षिणामुखी कोईलरवा हनुमान  मंदिर आमचुआं में पांच दिवसीय कार्तिक मेले  का शुभारंभ तुलसी विवाह की तिथि कार्तिक मास की    एकादशी से लेकर देव दीपावली तक हर साल होता है। यहां दर्शन पूजन करने के लिए हजारों की भीड़ मिर्जापुर, सोनभद्र, गाजीपुर, जौनपुर, बलिया, देवरिया, आजमगढ़, चंदौली के अलावा बिहार, झारखंड और छत्तीसगढ़ से काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। वही मन्नत पूरा होने के बाद अखंड हरिकीर्तन श्री रामचरितमानस पाठ श्रद्धालु कराते हैं इसके अलावा दूरदराज के आने वाले लोग सपरिवार बाटी चोखा बनाकर प्रसाद ग्रहण करते हैं।


श्री श्री 108 संत रामदास त्यागी -  हनुमान मंदिर के स्वरूप का निर्माण 1995 में पूर्ण हुआ, काफी पहले से पाकड़ के पेड़ के नीचे प्राचीन हनुमान जी की प्रतिमा का पूजन अर्चन होता था।


चौकी इंचार्ज चंद्रप्रभा राम नयन यादव - पांच दिवसीय मेले में आने वाले लोगों की सुरक्षा के लिए कई थानों के दरोगा के अलावा दो प्लाटून पीएसी, महिला पुलिस की तैनाती की जा रही है।