जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
साधना सिंह की टेंशन बढ़ाने के लिए मुगलसराय के मैदान में आ गए छत्रबली व सरिता सिंह
चंदौली जिले की राजनीति के किसी खास इलाके में छत्रबली सिंह या उनकी पत्नी सरिता सिंह की एंट्री हो और उसकी हनक कहीं और ना सुनाई दे ऐसा कैसे हो सकता है।
 

साधना सिंह की बढ़ेगी टेंशन

मुगलसराय के मैदान में आ गए दो दावेदार 

विधानसभा चुनाव के लिए छत्रबली व सरिता सिंह भी तैयार 

चंदौली जिले की राजनीति के किसी खास इलाके में छत्रबली सिंह या उनकी पत्नी सरिता सिंह की एंट्री हो और उसकी हनक कहीं और ना सुनाई दे ऐसा कैसे हो सकता है। कुछ ऐसा ही आजकल उनकी विधानसभा चुनाव की तैयारी को लेकर लगने लगा है। छत्रबली सिंह और सरिता सिंह अपने पसंदीदा और अन्य विधानसभाओं से सुरक्षित समझी जाने वाली भारतीय जनता पार्टी की सीट से अपनी दावेदारी ठोकते हुए मौजूदा विधायक साधना सिंह को मुश्किल में डालने का काम शुरू कर दिया है।

केन्द्रीय मंत्री व सांसद महेन्द्रनाथ पांडेय के साथ साथ देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के वरदहस्त को पाने के बाद उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा और भी बढ़ गयी है और वह सोच रहे हैं कि कितने दिन तक सांसद व विधायक के पीछे चलते रहेंगे..अब उन्हें खुद जनता की अदालत में जाकर विधानसभा व उसके बाद लोकसभा का रुख करना चाहिए।

Chhatrabali Singh

हवा का रुख भांपकर फैसले लेने वाले नेता

 राजनीति के मजे खिलाड़ी और हवा का रुख भांपकर अपने राजनीतिक चाल चलने वाले छत्रबली सिंह अब जिला पंचायत की गद्दी अपने खासमखास को सौंप कर विधानसभा में जाने का सपना पाल रहे हैं। वह खुद विधायक और उसके बाद मंत्री की कुर्सी पर काबिज होने की लालसा के तहत सबसे सुरक्षित और आसान सीट से टिकट मांगने की दावेदारी पेश कर रहे हैं, ताकि टिकट मिले तो कम से कम खर्चे में चुनाव निपट जाए और भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर विधानसभा में पहुंच जाएं।

 हालांकि विधानसभा के तैयारी पति पत्नी दोनों की है और कोशिश यह है कि जिसे भी विधानसभा का टिकट मिले वह चुनाव लड़ जाए। इसलिए महिला कोटे की सीट पर भी नजर रखते हुए छत्रबली सिंह में मुगलसराय विधानसभा में सपत्नी अपनी दावेदारी ठोंक दी है। 

छत्रबली सिंह केवल अकेले दावेदारी नहीं कर रहे हैं, क्योंकि इस बात की प्रबल संभावना है कि भाजपा के कोटे में एक सीट महिला को जा सकती है, तो सरिता सिंह भी अगर दावेदारों में शामिल रहेंगी तो उनके हाथ में दो मौके होंगे।

380 sadhana Singh BJP MLA

साधना सिंह के लिए टेंशन

वहीं मुगलसराय के विधायक साधना सिंह का मानना है कि जिस तरह से उन्होंने अपने विधानसभा में काम किया है और पार्टी के जनाधार को मजबूत करने का काम किया है, उससे उनको टिकट मिलने का पूरा भरोसा है। उसको देखते हुए भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ने और दोबारा विधानसभा में पहुंचने की कोशिश में वह दिन रात एक किए हुए हैं। इतना ही नहीं उन्होंने अपनी विधानसभा के नाराज वोटरों को मनाने के लिए कुछ नए नवेले तरीके भी अपनाकर नाराज पार्टी के कार्यकर्ताओं, नेताओं और अपने मतदाताओं के दरवाजे पर दस्तक दे रही हैं। फिलहाल हर घर में उनका कैलेंडर पहुंचने लगा है। साथ ही साथ वह अपनी लंबी चौड़ी विकास पुस्तिका भी लोगों को सौंप रही हैं, ताकि 5 साल में नाली, सड़क, खड़ंजा इत्यादि से लेकर जितने भी बड़े काम उनकी विधानसभा में हुए हैं.. सबको याद दिलाते हुए उसका कुछ न कुछ लाभ लिया जा सके।

Chhatrabali Singh

गोटी सेट करने में माहिर हैं छत्रबली

 अब देखना यह है कि साधना सिंह टिकट बंटवारे के पहले किस तरह से अपनी पकड़ पार्टी और टिकट वितरण करने वाले समूह में मजबूत रख पाती हैं। वहीं पार्टी किस तरह से मुगलसराय विधानसभा में चल रहे एंटी इनकंबेंसी फैक्टर को दूर करने के लिए कोई नयी पहल करते हुए कहीं उम्मीदवार बदलने की कोशिश तो नहीं शुरू कर देती है। ऐसे सूरत में पार्टी किसी नए चेहरे को तो मैदान में उतारने की कोशिश कर सकती है, जो मुगलसराय विधानसभा के लिए नया हो और धनबल में भी मजबूत हो। ताकि विरोधी दल से कोई भी उम्मीदवार मुगलसराय विधानसभा के चुनाव में उसके आगे टिक न सके। इस फार्मूले सरिता सिंह व छत्रबली सिंह तब फिट बैठ सकते हैं, जब पार्टी के पुराने नेता खुलकर उनका विरोध न करें। 

छत्रबली सिंह जानते हैं कि चंदौली की राजनीति में किसको किस तरह से मनाया जाता है और कौन किस तरह से सेट हो जाता है। इसीलिए इनकी राजनीतिक लालसा को देखकर कई भाजपा के दिग्गज नेता सरेंडर हो सकते हैं या कुछ खास कारणों से इनके आगे अपना मुंह बंद रख सकते हैं।