जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
शायद इसीलिए नहीं आए औलखजी, एक ही दिन में लौट गए डिप्टी सीएम पाठकजी
चंदौली जिले में आज उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक के साथ कृषि राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख का दो दिवसीय दौरा तय करके विभागीय प्रोटोकॉल जारी कर दिया गया था, जिसके लिए दोनों का पूरा कार्यक्रम तैयार किया गया और जिले में मीटिंग व कई स्थानों के भ्रमण का कार्यक्रम था
 
 उपमुख्यमंत्री द्वारा दो दिवसीय दौरे को एक ही दिन में समेट सारे काम निपटा दिए 

चंदौली जिले में आज उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक के साथ कृषि राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख का दो दिवसीय दौरा तय करके विभागीय प्रोटोकॉल जारी कर दिया गया था, जिसके लिए दोनों का पूरा कार्यक्रम तैयार किया गया और जिले में मीटिंग व कई स्थानों के भ्रमण का कार्यक्रम था। प्रोटोकॉल के हिसाब से उप मुख्यमंत्री का जिले में आगमन तो हुआ लेकिन कृषि राज्यमंत्री  जिले में नहीं आ सके। इतना ही नहीं  उपमुख्यमंत्री द्वारा दो दिवसीय दौरे को एक ही दिन में समेट कर तूफानी दौरा करते हुए सारे काम निपटा कर चंदौली में रात्रि विश्राम की जहमत नहीं उठायी। 

आपको बता दें कि उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक के साथ साथ कृषि राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख का चंदौली जनपद में दो दिवसीय दौरा का प्रोटोकॉल जारी हुआ था तो लोगों को लगा था कि दोनों मंत्री वाराणसी की तर्ज पर बारीकी के साथ समीक्षा करेंगे और जनता से रुबरू होकर सरकारी कामकाज की हकीकत परखेंगे,  लेकिन कृषि राज्य मंत्री चंदौली जनपद में आ ही नहीं, तो पाठकजी ने सारा काम आनन फानन में एक ही दिन में निपटा दिया, जिसकी चर्चा भी लोगों में होती रही है।

लोगों का कहना है कि उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक और सरकार के राज्यमंत्री जब अपने प्रोटोकॉल का पालन नहीं करेंगे तो अधिकारी कहां से काम अप-टू-डेट रखेंगे। यह दौरा मुख्यमंत्री के निर्देश पर खानापूर्ति जैसा दिखायी दिया। अगर बारीकी से खामियों को देखा जाता तो कई लोगों पर गाज जरूर गिरती, लेकिन उपमुख्यमंत्री के दौरे में ऐसा कुछ नहीं दिखा।  

ऐसी भी चर्चा थी कि चंदौली जिले में बिजली की समस्या को लेकर जूझ रहे लोग अपनी समस्या को लेकर उपमुख्यमंत्री से रात्रि में मुलाकात करने के लिए गए थे, लेकिन जैसे ही सर्किट हाउस पहुंचे लोग तो पता चला कि उपमुख्यमंत्री आज ही रवाना हो गए, जिससे बिजली की समस्या को लेकर पहुंचे लोग मायूस होकर वापस आ गए।

 आपको बता दें कि वहीं मौजूद लोगों ने कहा कि उप मुख्यमंत्री द्वारा अपना दौरा 1 दिन में समाप्त इसलिए कर दिया गया ताकि यहां की विद्युत की समस्या को उन्हें भी झेलनी न पड़े। लोगों की शिकायतें व समस्याओं को न सुनने की जल्दबाजी में उप मुख्यमंत्री 2 दिन के दौरे पर आने के बावजूद भी लोगों के समस्याओं का निराकरण करने के बजाए बीच में ही दौरे को समाप्त कर वापस चले गए।

 मीडियाकर्मियों द्वारा विद्युत की समस्या उठाए जाने पर उप मुख्यमंत्री  ने उत्तर देते हुए कहा कि कुछ ही दिनों में विद्युत की समस्या का समाधान हो जाएगा। लेकिन जनपद के विद्युत की समस्या झेल रहे लोगों ने कहा कि डिप्टी सीएम को इस बात का डर था कि लोग उनको बिजली के मामले पर घेरने की कोशिश करेंगे उसी के कारण दौरे को एक ही दिन में समेटकर यहां से चलते बने