जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
DM साहब मनमाना पैसा वसूल रहे हैं नगवां चोचकपुर गंगा घाट के नाविक, करवा लीजिए जांच
उत्तरी छोर में बहने वाली गंगा नदी पर नगवां चोचकपुर गंगा घाट पर नाव संचालक यात्रियों से गंगा नदी को पार कराने के नाम पर मनमाने तरीके से पैसे की वसूली कर रहे हैं
 

DM साहब इधर भी दे ध्यान 

नगवां चोचकपुर गंगा घाट पर नाव वाले कर रहे वसूली

चंदौली जिले के उत्तरी छोर में बहने वाली गंगा नदी पर नगवां चोचकपुर गंगा घाट पर नाव संचालक यात्रियों से गंगा नदी को पार कराने के नाम पर मनमाने तरीके से पैसे की वसूली कर रहे हैं, जबकि जिला प्रशासन की ओर से इसके लिए किसी भी तरह का शुल्क न लिए जाने का आदेश जारी किया गया है। पीपा पुल बंद होने के बाद से विभाग ने गंगा नदी के इस पार से उस पार जाने और आने के लिए निशुल्क व्यवस्था की गई थी, लेकिन इसके बावजूद भी मोटरसाइकिल और साइकिल सवारों के साथ-साथ पैदल यात्रियों से भी मनमाने तरीके से पैसे की वसूली की जा रही है।

 आपको बता दें कि गंगा नदी पर एक पीपा का पुल बनाया गया था, लेकिन बरसात के बाद इसे बंद कर दिया गया था। इस दौरान सरकारी अधिकारियों ने गंगा पार आने जाने के लिए नाव की व्यवस्था की थी और नाव संचालक नियमित रूप से आने जाने वाले लोगों को इस पार से उस पार ले जाने का काम करते हैं। 

आने जाने वाले यात्रियों का कहना है कि सरकार के निशुल्क व्यवस्था के बावजूद मोटरसाइकिल और साइकिल सवारों से क्रमशः 20 से 30 रुपए लिये जा रहे हैं। साथ ही साथ पैदल आने जाने वाले यात्रियों से भी 10 रुपए की वसूली की जा रही है।

 आपको बताते चलें कि गंगा नदी पर बनने वाला पीपा पुल 15 जून से नवंबर तक बंद रखा जाता है। इस दौरान नाव का संचालन किया जाता है, ताकि लोग आसानी से गंगा नदी को पार कर सकें। यह व्यवस्था पूर्ण रूप से निशुल्क कराई जाती है, लेकिन चोचकपुर घाट पर नाव संचालक अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं। आए दिन किराए को लेकर यात्रियों के साथ कहासुनी और मारपीट की नौबत आ जाती है।

इस बारे में जानकारी देते हुए अधिशासी अभियंता देवेंद्र पाल सिंह ने कहा घाट पर नावों का संचालन निशुल्क है। अगर वहां पैसा लिया जा रहा तो जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। यात्रियों को पैसे नहीं देने चाहिए।