जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
अंगूर के लिए मां ने डांटा तो घर छोड़कर दिल्ली भाग गया लकी, संस्था को मिला तो परिजनों को आया फोन
कहा जाता है कि मां-बाप की डांट बच्चों की भले के लिए होती है, लेकिन कभी कभी यह डांट उनके गले की आफत बन जाती है और बच्चे कोई गलत कदम उठा लेते हैं। कुछ ऐसा ही सकलडीहा क्षेत्र के तुलसी आश्रम कस्बा निवासी सूबेदार कुशवाहा के 11 साल के बच्चे ने किया और घर छोड़कर फरार हो गया
 

अंगूर के लिए मां ने डांटा तो घर छोड़कर दिल्ली भाग गया

लकी से बात कराई तो घर वालों की जान में जान आयी

कहा जाता है कि मां-बाप की डांट बच्चों की भले के लिए होती है, लेकिन कभी कभी यह डांट उनके गले की आफत बन जाती है और बच्चे कोई गलत कदम उठा लेते हैं। कुछ ऐसा ही सकलडीहा क्षेत्र के तुलसी आश्रम कस्बा निवासी सूबेदार कुशवाहा के 11 साल के बच्चे ने किया और घर छोड़कर फरार हो गया।

बताया जाता है कि मां ने अंगूर के लिए डांटा तो यह बात बाल मन को आहत कर गई। घर से स्कूल के लिए निकला तो वापस नहीं लौटा। इसके बाद तो परिजनों की जैसे सांस ही अटक गई। घर में चूल्हा तक जलना बंद हो गया। पुत्र वियोग में मां-बाप जैसे बेसुध हो गए थे। पांच दिन बाद सोमवार को पिता के मोबाइल पर दिल्ली से साथी संस्था का फोन आया और उन्होंने लकी से बात कराई तो घर वालों की जान में जान आयी है।

आपको बता दें कि सकलडीहा क्षेत्र के तुलसी आश्रम कस्बा निवासी सूबेदार कुशवाहा का 11 वर्षीय पुत्र लकी 20 अप्रैल से ही लापता था। लकी अंगूर के लिए मां की डांट से नाराज होकर घर छोड़कर भाग गया। तुलसीआश्रम रेलवे स्टेशन से ट्रेन पकड़ी और इस ट्रेन से उस ट्रेन होता दिल्ली पहुंच गया। इधर घरवाले परेशान हो गए थे। गांव-गांव, शहर-शहर बच्चे को ढूंढ रहे थे। सोमवार को सुबेदार कुशवाहा के मोबाइल पर फोन आया। नई दिल्ली से साथी संस्था के सदस्य ने बताया कि बच्चा उनके पास सुरक्षित है। वीडियो कालिंग के जरिए बच्चे से बात कराई तो परिवार वालों की जान में जान आई। बच्चे को लेने लिए सुबेदार दिल्ली रवाना हो गए हैं। बताया कि बेटे का पता चल गया है। वह साथी संस्था के संरक्षण में है। वह अपने बच्चे को लेकर जल्द ही घर लौटेंगे।