जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
तीन महीने में केबल व मोटर जली है, ट्यूबवेल व बिजली विभाग एक दूसरे पर लगा रहे आरोप
किसानों का आरोप है कि कई बार शिकायत के बाद भी सुनवाई नहीं हुईं। इससे नाराज किसानों ने ट्यूबेल पर प्रदर्शन किया है।
 

3 महीने से तय नहीं हो पा रहा है कौन बनाएगा ट्यूबवेल

परेशान किसानों ने सांसद से लगायी गुहार


चंदौली जिले के चहनिया ब्लॉक के महुअर कला गांव में तीन महीने से ट्यूबेल की मोटर व केबल जली हुयी है। इससे सिंचाई कार्य बाधित है। लोगों के धान सूख रहे हैं। इसकी शिकायत ग्रामीणों ने अधिकारियों से की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। सुनवाई न होने पर शुक्रवार को नाराज किसानों ने प्रदर्शन कर चेतावनी दी है।

महुअर कला गांव में ट्यूबेल का मोटर व केबिल विगत तीन माह से जला पड़ा है। ट्यूबेल से 40 बीघे खेत की सिंचाई होती है। मौके पर मौजूद किसान सन्तोष सिंह, महेंद्र प्रताप सिंह, शमशेर सिंह, डब्लू सिंह, निजाम सिंह, दीपक सिंह, धर्मराज सिंह, राधे रमण तिवारी, विजय कुमार, आनन्द तिवारी, गिरीश चन्द्र तिवारी, विनोद सिंह, रामप्रवेश सिंह, रामेश्वर तिवारी, राम प्रसाद सिंह, राशि सिंह आदि किसानों की धान की फसल सूख रही है। 

किसानों का आरोप है कि कई बार शिकायत के बाद भी सुनवाई नहीं हुईं। इससे नाराज किसानों ने ट्यूबेल पर प्रदर्शन किया है। किसानों का कहना है कि सिंचाई विभाग के अधिकारी कभी यहां नहीं आते हैं। जब भी सिंचाई विभाग के जेई से शिकायत की जाती है तो अधिकारी कहते हैं कि बिजली विभाग की केबिल लगाने की जिम्मेदारी है। बिजली विभाग के अधिकारी कहते हैं कि ट्यूबवेल सिंचाई विभाग का है। ऐसे में केबल लगाने की जिम्मेदारी उनकी है। दो विभागों की खींचतान में किसानों की फसल सूख रही है। 

तीन माह पूर्व जलने के कारण करीब 20 बीघे खेत परती रह गया है। कुछ किसानों जैसे तैसे धान रोप दिये हैं। जो अब सिंचाई के अभाव में सूख रहा है। किसानों ने कहा है कि इसकी शिकायत अब केंद्रीय मंत्री व सांसद डॉ महेंद्र नाथ पाण्डेय से की जायेगी। इसके बाद भी केबिल नहीं लगी तो आंदोलन को बाध्य होंगे।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*