जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
प्राथमिक विद्यालय में सफाई नहीं करते सफाईकर्मी, बड़ौरा खालसा में बच्चे व अध्यापक लगाते हैं झाड़ू
धानापुर ब्लाक अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय बड़ौरा खालसा में सफाईकर्मी नहीं आने से यहां पर हेडमास्टर अजीत प्रताप सिंह व अध्यापक सुमित दुबे व बच्चे ने झाड़ू लगाते अक्सर देखे जाते हैं।
 

सफाई कर्मी लापता होने से परेशान हैं स्कूल के अध्यापक

खुद करनी पड़ती है झाड़ू लगाकर सफाई 

चंदौली जिले के धानापुर ब्लाक अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय बड़ौरा खालसा में सफाईकर्मी नहीं आने से यहां पर हेडमास्टर अजीत प्रताप सिंह व अध्यापक सुमित दुबे व बच्चे ने झाड़ू लगाते अक्सर देखे जाते हैं। ग्राम प्रधान व सफाईकर्मियों की लापरवाही का नजारा इस गांव में अक्सर दिखायी देता है।

आपको बता दें कि स्कूल में साफ सफाई के लिए सफाईकर्मी पर निर्भर रहना भारी पड़ रहा है।  हेडमास्टर साहब ने बताया कि आए दिन यहां सफाईकर्मी ऐसे ही लापरवाही बरतते हैं और हम लोगों को ही झाड़ू लगाना पड़ता है। सुबह 8 बजे का विद्यालय है अगर यहां एक भी सफाईकर्मी टाइम से आ जाए तो अध्यापक लोगों को झाड़ू नहीं लगाना पड़ता है, लेकिन यहां पर सफाईकर्मियों का मनमानी चलती है। वह आए न आए कोई देखने व बोलने वाला नहीं है। 

बताया जाता है कि यहां न तो ग्राम प्रधान का ध्यान जाता है और न ही अन्य किसी अधिकारी का। सफाईकर्मी मनमाने हो गए हैं। अध्यापक लोग यह झाड़ू लगा करके  बच्चों को बैठाते तब जाकर पढ़ाई शुरु होती है। सफाईकर्मी कभी 9 बजे तो कभी 10 बजे या कभी फिर 12 बजे ऐसे ही घूम के चले जाते हैं। 

अब अध्यापक लोग टोकते हैं तो वह तमाम तरह के बहाने बनाते हैं। अब अध्यापकों का कहना है कि वह यहां झाड़ू लगाएं या बच्चों को पढ़ाएं। ग्राम प्रधान को भी यह सब देखने की फुर्सत नहीं है। ऐसे में हम लोगों से जो हो पाता है करते हैं। खुद से झाड़ू लगाकर पढ़ाई भी कराते हैं। अगर सफाइकर्मियों की नकेल कसी जाय तो बेहतर रहेगा।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*