जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
देख लीजिए कहीं आपके नाम पर बेचा जा रहा है किसी दूसरे का धान, खाते में हो रही है एंट्री
चंदौली जिले में धान खरीद की समस्या को लेकर हर रोज एक के बाद एक खुलासे हो रहे हैं और किसानों को ठगने तथा बिचौलियों को उसका लाभ पहुंचाने की भरपूर कोशिश की जा रही है।
 

धान खरीद केन्द्रों पर आया नया मामला

जिलाधिकारी से जांच कराकर कार्रवाई करने की मांग

देख लीजिए कहीं आपके नाम पर बेचा जा रहा है किसी दूसरे का धान

खाते में हो रही है एंट्री
 

चंदौली जिले में धान खरीद की समस्या को लेकर हर रोज एक के बाद एक खुलासे हो रहे हैं और किसानों को ठगने तथा बिचौलियों को उसका लाभ पहुंचाने की भरपूर कोशिश की जा रही है। आपको बता दें कि चंदौली जिले में पिछले 1 महीने से किसान अपना धान उचित तरीके से बेचने के लिए परेशान हैं। कभी सरकार की गाइडलाइन तो कभी जिले स्तर की समस्या के चलते किसानों को अपना धान बेचने के लिए क्रय केंद्रों के साथ-साथ अधिकारियों के ऑफिस के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।

 कहा जा रहा है कि जिले में धान बेचने के मामले में एक समस्या का समाधान होता है तो दूसरी समस्या आ जाती है। फिलहाल चंदौली जिले में किसानों के सामने एक नई समस्या आ गई है, जिस में धान खरीद केंद्रों पर मौजूद कर्मचारी किसानों को ठगने और परेशान करने का कार्य कर रहे हैं।

 बताया जा रहा है कि जो किसान 60 क्विंटल धान क्रय केंद्र पर बेच रहा है तो उसके खाते में 120 कुंटल की एंट्री हो जा रही है। कुछ ऐसा ही मामला समाजवादी पार्टी के नेता मनोज कुमार सिंह डब्लू के सामने आया है, जहां इमिलिया गांव के किसान छबिनाथ सिंह ने उनसे शिकायत करते हुए कहा है कि उनके द्वारा क्रय केंद्र पर केवल 60 क्विंटल धान बेचा गया है और उन्हें इसके बाद कम से कम दो से तीन बार अगला टोकन लेकर अपना बाकी धान बेचना था, लेकिन उनके खाते में 120 क्विंटल की एंट्री दिखाई दे रही है। जब उन्होंने केवल 60 क्विंटल धान भेजा है तो यह एंट्री कैसे हो गई है। इसका जवाब क्रय केंद्र के लोग नहीं दे पा रहे हैं।

 

जानकारी के अनुसार उन्होंने अपना ध्यान पीसीएफ के क्रय केंद्र डिग्घी पर बेचने के लिए टोकन लिया था। सपा नेता ने जिलाधिकारी से इस मामले में जांच पड़ताल कराने और चंदौली जिले के किसानों को मदद पहुंचाने की अपील की है, ताकि केंद्र प्रभारियों की मदद से बिचौलिए और व्यापारी किसानों को ठगने और लूटने का काम ना कर सके।

Dhan Khareed

Dhan Khareed