जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
मनरेगा के 14 हजार से ज्यादा फर्जी जॉबकार्ड निरस्त, अब नपेंगे सेक्रेटरी व रोजगार सेवक
इसमें 14 हजार 292 फर्जी जॉबकार्ड पाए गए। इससे उसे निरस्त कर दिया गया। इसमें 42 हजार 885 श्रमिक सदस्य शामिल थे। 
 

चंदौली जिले में शासन के आदेशानुसार जनपद में फर्जी जॉबकार्ड के जरिए मनरेगा का कार्य कर रहे श्रमिकों को चिह्नित किया गया है। ऐसे 14 हजार से ज्यादा फर्जी जाबकार्ड निरस्त कर दिए गए हैं। इसमें 42 हजार श्रमिकों के नाम शामिल थे। अब किसी भी विकास खंड में औचक निरीक्षण में जांच के दौरान अपात्र व फर्जी, डबल व मृतकों का जॉबकार्ड पाया गया तो संबंधित के खिलाफ सीधे कार्रवाई की जाएगी।

जनपद में 2 लाख 64 हजार 964 जाब कार्डधारक हैं। इसमें एक लाख 58 हजार 811 कार्डधारक सक्रिय रहते हैं। इन श्रमिकों से मनरेगा के तहत तालाब की खुदाई, कच्चा चक मार्ग, आवास निर्माण, नाली निर्माण, पौधरोपण सहित अन्य कार्य करते हैं। इसमें कुछ अपात्र जाबकार्ड धारक भी ग्राम पंचायतों में संबंधित कर्मियों के मिलीभगत से घालमेल कर लेते रहे थे। ऐसे अपात्र जाबकार्डों की जांच 31 अगस्त तक करने का आदेश दिया था। साथ ही फर्जी जाबकार्डों को निरस्त करने की कार्रवाई की हिदायत दी गई थी।

बताया जा रहा है कि फर्जी जॉबकार्डों को खत्म करने के अनुपालन में जिला प्रशासन की ओर से सेक्रेटरी, रोजगार सेवक, सोशल आडिट कोआर्डिनेटर और महिला मेठों की टीम गठित कर ग्राम पंचायतों में जाबकार्डों की जांच करायी गई। इसमें 14 हजार 292 फर्जी जॉबकार्ड पाए गए। इससे उसे निरस्त कर दिया गया। इसमें 42 हजार 885 श्रमिक सदस्य शामिल थे। 
जानकारी देते हुए जिले के परियोजना निदेशक डीआरडीए एवं मनरेगा के प्रभारी अधिकारी सुशील कुमार ने बताया कि जांच में फर्जी, डबल और मृतकों के पाए गए जॉब कार्डों को डिलीट करा दिया गया है। अब किसी भी ग्राम पंचायतों में फर्जी जॉबकार्ड पाया गया तो संबंधित कर्मचारियों के खिलाफ सीधे कार्रवाई की जाएगी।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*