जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
381 सकलडीहा विधानसभा : ये हैं कांग्रेस पार्टी के सबसे मजबूत दावेदार, टिकट व जीत का दावा
चंदौली जिला कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता देवेन्द्र प्रताप सिंह मुन्ना अबकी बार सकलडीहा विधानसभा सीट से न सिर्फ टिकट की दावेदारी कर रहे हैं
 

सकलडीहा विधानसभा

कांग्रेस को जीत दिलाने का दावा कर रहे हैं देवेन्द्र प्रताप सिंह मुन्ना

सपा विधायक के बारे में कुछ ऐसा बोले नेता जी

 

चंदौली जिला कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता देवेन्द्र प्रताप सिंह मुन्ना अबकी बार सकलडीहा विधानसभा सीट से न सिर्फ टिकट की दावेदारी कर रहे हैं, बल्कि जीत का दावा कर रहे हैं। जानिए क्यों व कैसे कांग्रेस का जनाधार बढ़ा रही हैं प्रियंका गांधी और कैसे मिलेगी कांग्रेस पार्टी को जीत। 

देवेन्द्र प्रताप सिंह मुन्ना ने चंदौली समाचार से खास बातचीत की और अपनी दावेदारी कुछ इस तरह पेश की....

Devendra Pratap Singh Munna


 
इसलिए सकलडीहा में होगी जीत

सकलडीहा मेरी जन्मभूमि और कर्म भूमि है। मैं यहां सकलडीहा पीजी कॉलेज का छात्रसंघ अध्यक्ष रहा। मेरी पत्नी जिला पंचायत सदस्य रहीं। मैं विगत 23-24 वर्षों से राजीनीति में सक्रिय रहा हूं। विधानसभा के प्रत्येक घर और प्रत्येक व्यक्ति को जानता और पहचानता हूं। लोगों की जांच और परख पर खरा उतरकर सब के दुःख-सुख का साथी होने के नाते यह भरोसा है कि अबकी बार कांग्रेस पार्टी के मजबूत दावेदार के रूप में मैदान में आउंगा।  उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रभारी प्रियंका के कारण कांग्रेस के सभी संगठन बहुत मजबूत हुए हैं, जिसके कारण इस बार कांग्रेसी जीत निश्चित है। 

Devendra Pratap Singh Munna


कैसे मजबूत हो रही है कांग्रेस

उत्तर प्रदेश में 32 वर्षों से कांग्रेस की सरकार नहीं है। इन 32 वर्षों में सपा, बसपा, भाजपा ने अपनी सरकार बनाई, लेकिन चंदौली का विकास का कार्य जो भी हुआ था, वह कांग्रेस की सरकार में पंडित कमलापति त्रिपाठी जी के द्वारा किया गया था। इसलिए यहां की जनता के अंदर कांग्रेस है। इसीलिए जिले में कांग्रेस अभी भी मजबूत है। 

धनबल और बाहुबली होगा फेल

 पूर्वांचल के कई बाहुबली और धनबल के मालिक यहां से चुनाव लड़े और जीते भी, लेकिन उनका यहां की आम जनता से कभी भी सरोकार नहीं रहा। इसलिए यहां की जनता अब इन लोगों से ऊब चुकी है और अपने को ठगा हुआ महसूस कर रही है। अब जनता धोखा नहीं खाना चाहती। 

Devendra Pratap Singh Munna


विधायक दें 25 सालों का हिसाब 

वर्तमान विधायक 5 बार सपा से चुनाव लड़े और तीन बार जीते और दो बार हारे। विधायक जी जब हारे तो सपा की सरकार थी। 25 वर्षों से कार्य करने का जनता ने उनको मौका दिया था, लेकिन अपने इस पूरे अवसर के दौरान उन्होंने कितना विकास किया और सकलडीहा में क्या किया है..यह जनता को सही से दिखाई दे रहा है। अबकी बार जनता उनको करारा जवाब देगी।

कोई नहीं है टक्कर में 

सपा को भरपूर अवसर मिला पर जनहित के सभी मुद्दों पर वे चुप्पी साधे रहे। 5 वर्ष के कार्यकाल में साढ़े 4 वर्ष तक अपने घर में सोए रहे। बसपा भाजपा से पूरी तरह डर कर कमजोर हो चुकी है। भाजपा आजादी के बाद से चाहे वह मोदी लहर हो या राम लहर..कभी भी इस इलाके से नहीं जीती है। इसलिए सब की टक्कर कांग्रेस प्रत्याशी देवेन्द्र प्रताप सिंह मुन्ना के साथ ही है।