जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
आज मुख्यमंत्री से मिलकर शिकायत करेंगे कीनाराम मठ के संयोजक अजीत सिंह, सौंपेंगे एक ज्ञापन भी
जिले की खराब सड़कों, गंगा कटान और काला धान के बाजार उपलब्ध कराने जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को लेकर गुरुवार को बाबा कीनाराम मठ कार्यक्रम के संयोजक अजीत सिंह लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने वाले हैं। इसके लिए उन्हें लोकभवन में सीएम कार्यालय की ओर से समय भी दिया गया है। 
 

चहनिया इलाके की सड़कों का उठाएंगे मुद्दा

मंडी समिति में सड़ रहे काला धान की बताएंगे हकीकत

गंगा कटान पर बताएंगे जिले का हाल 

चंदौली जिले की खराब सड़कों, गंगा कटान और काला धान के बाजार उपलब्ध कराने जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को लेकर गुरुवार को बाबा कीनाराम मठ कार्यक्रम के संयोजक अजीत सिंह लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने वाले हैं। इसके लिए उन्हें लोकभवन में सीएम कार्यालय की ओर से समय भी दिया गया है। 

कहा जा रहा है कि इस बाबत अजीत सिंह सीएम को विभिन्न मुद्दों और समस्याओं को लेकर पत्रक भी सौपेंगे और चहनिया इलाके की प्रमुख समस्याओं को मुख्यमंत्री के समक्ष रखेंगे।

कार्यक्रम संयोजक अजीत सिंह ने बताया कि पीडीडीयू नगर से चहनिया तक, बाबा कीनाराम मठ मार्ग सहित अन्य ग्रामीण इलाकों की सड़कें पूरी तरह से खराब है। इस सड़क ग्रामीण इलाकों के काफी संख्या में लोगों का पीडीडीयू नगर, जंक्शन, वाराणसी आवागमन होता है। इसके अलावा मारुफ़पुर से चंदौली तक की सड़क सकलडीहा होते हुए वर्षों से खराब है। लक्ष्मणगढ़ चौराहे से बाबा कीनाराम जन्मस्थली तक यह सड़क भी बाबा कीनाराम जन्म उत्सव के समय भारी भीड़ से आवागमन से व्यस्त रहती है। 

इसके साथ साथ जनपद के तटवर्ती गांवों में गंगा कटान में उपजाऊ जमीन समाहित हो रही है। कटान रोकने के साथ ही मुआवजे के लिए सीएम से आग्रह किया जाएगा। वहीं जिले में काला धान डंप पड़ा हुआ है। तत्कालीन डीएम नवनीत सिंह चहल की पहल पर किसानों ने खेती की और तब बाजार भी उपलब्ध कराया गया, लेकिन उनके स्थानांतरण के बाद आए निवर्तमान डीएम संजीव सिंह की उदासीनता के चलते वर्तमान में करीब एक हजार कुंतल धान किसानों को कृषि मंडी में डंप पड़ा हुआ है और खराब हो रहा है। इससे जिले में काला धान की खेती करने वाले किसानों की संख्या भी कम हो गई। सीएम से मिलकर इस मुद्दे को भी उनके सामने रखा जाएगा।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*