जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
मां की आंख के सामने बच्चे को दबोच ले गया मगरमच्छ, चली गयी चंदन की जान
चंदौली जिले के चकिया कोतवाली क्षेत्र के सिकंदरपुर के पास विजयपुरवा गांव में शुक्रवार को एक हादसे में एक 7 साल के मासूम बच्चे को घात लगाए बैठा मगरमच्छ खींच कर पानी में लेता गया और मां के सामने इस घटना को देखने के सिवा कोई और चारा नहीं बचा। मां के चीखने चिल्लाने पर आसपास के लोग नदी किनारे जुट गए और बच्चे को बचाने की कोशिश की, लेकिन बच्चे की जान नहीं बचा सके। 
 
बच्चे को बचाने की कोशिश की, लेकिन बच्चे की जान नहीं बचा

चंदौली जिले के चकिया कोतवाली क्षेत्र के सिकंदरपुर के पास विजयपुरवा गांव में शुक्रवार को एक हादसे में एक 7 साल के मासूम बच्चे को घात लगाए बैठा मगरमच्छ खींच कर पानी में लेता गया और मां के सामने इस घटना को देखने के सिवा कोई और चारा नहीं बचा। मां के चीखने चिल्लाने पर आसपास के लोग नदी किनारे जुट गए और बच्चे को बचाने की कोशिश की, लेकिन बच्चे की जान नहीं बचा सके। 

बताया जा रहा है कि सिकंदरपुर के विजयपुरवा गांव के रहने वाले पखंडू विश्वकर्मा की पत्नी अपने 7 साल के बच्चे चंदन को लेकर नदी के किनारे कपड़ा धोने के लिए गई थी। इसी दौरान पहले से घात लगाए बैठे एक मगरमच्छ ने मासूम चंदन पर हमला बोल दिया और उसे दबोच कर नदी में ले गया। इस घटना में मासूम चंदन की मौके पर ही मौत हो गई।

लोगों ने कहा कि मां के चीखने चिल्लाने की आवाज सुनकर आसपास के लोग वहां जुट गए और बच्चे को बचाने का प्रयास किया लेकिन किसी को कोई सफलता नहीं मिली। लोगों के शोरगुल सुनकर मगरमच्छ ने चंदन को बीच नदी में छोड़ दिया और वहां से गहरे पानी की ओर भाग निकला।

 ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने लोगों की सहायता से चंदन को नदी से बाहर निकाला और पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजने की कार्यवाही में जुट गयी। इसके बाद चंदन की मौत से गुस्साए लोगों ने बच्चे के शव को सड़क पर रखकर चक्काजाम कर दिया और कहा कि गांव में ऐसी घटनाएं बार-बार हो रही हैं। जिसकी कई बार ग्रामीणों ने शिकायत की लेकिन वन विभाग की टीम द्वारा लोगों की सुरक्षा के लिए कोई कार्य नहीं किया जा रहा है। इसी वजह से आज एक मासूम को अपनी जान गंवानी पड़ी है।