जिले का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टलMovie prime
किसान महापंचायत में सिंचाई की समस्या को लेकर किसानों ने भरी हुंकार ​​​​​​​
 बंधियों का मछली का ठेका रद्द होने की मांग उठाते हुए किसान नेताओं ने कहा कि किसानों की खेतों के लिए पानी की जरूरत नहीं होती हैं तब पानी बंधियों से बहा दिया जाता है।
 

केंद्र तथा प्रदेश की सरकार किसानों की बहू और कर रही है अनदेखी

 


चंदौली जिला के चकिया विकासखंड अंतर्गत शिकारगंज स्थित काशी नरेश के पोखरे पर गुरुवार को किसान महापंचायत को लेकर किसानों ने हुंकार भरी। इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि सरकार की गलत सिचाई नीति का परिणाम हैं कि बंधीं की भरमार होने के बाद भी चोविसहा, शिकारगंज के किसानों की खेतों में पानी के अभाव में फसलों की सिचाई नहीं होती हैं। केंद्र एवं प्रदेश की सरकार किसानों की चहुंंओर अनदेखी कर रही है।

Kisan Panchayat

बताते चलें कि चौपाल में किसान नेताओं ने कहा कि अगर अतरसुघवा में भोका कट कर पानी भोकाबंधी में गिरा दिया जाए तो यहाँ के किसानों की खेती करने के लिए प्रयाप्त पानी मिल जाए। लेकिन सरकार व सिचाई विभाग इस मामले में कोई पहल नहीं रहा हैं। वहीं हर सरकार में जलकूप योजना के तहत टयूबेल लगाने के लिए आता हैं, लेकिन तेजतर्रार व बाहुबली जनप्रतिनिधि इस योजना का लाभ अपने क्षेत्र में ले जाते हैं और यह इलाका इससे वंचित रह जाता है। जिसके लिए भी क्षेत्र के किसानों को लड़ाई लड़नी होगी।

 बंधियों का मछली का ठेका रद्द होने की मांग उठाते हुए किसान नेताओं ने कहा कि किसानों की खेतों के लिए पानी की जरूरत नहीं होती हैं तब पानी बंधियों से बहा दिया जाता है। क्योंकि मछली ठेकेदार को मछली मारना रहता हैं और जब पानी की जरूरत किसानों की रहती हैं तब पानी निकालने नहीं  दिया जाता हैं। चौपाल में धोखा बंदी को बांध का रूप दिए जाने की भी मांग उठाई गई। 

Kisan Panchayat

किसान नेताओं ने कहा कि खासकर भाजपा सरकार किसानों की खेती को चौपट कर किसानों को मजबूर कर रहीं हैं। भाजपा शासित केंद्र सरकार ने तीन किसान विरोधी बिल लायी थी जिसकों किसानों ने आंदोलन के बल पर एक हद तक वापस करने पर बाध्य कर दिया। महापंचायत में किसानों ने धान की खेती सुखा के कारण ना होने पर राहत पैकेज देने तथा चकिया तहसील क्षेत्र को सूखाग्रस्त घोषित करने शिकारगंज क्षेत्र की सिंचाई समस्या का स्थाई समाधान करने की मांग की।
 

बरसात के बीच किसान महापंचायत में आए पूर्व सांसद रामकिशन यादव ने कहा कि किसानों को अपनी समस्या के समाधान हेतु खुद लड़ाई लड़नी होगी तथा एकजुट होकर की संघर्ष करना होगा। इसके अलावा सभा को चकिया ब्लॉक के पूर्व प्रमुख बच्चन सिंह, डॉक्टर रामआधार जोसेफ, मजदूर किसान मंच के नेता अजय राय, किसान यूनियन के दीनानाथ श्रीवास्तव, विरेंद्र पाल, देशराज सिंह, सत्यप्रकाश पाण्डेय,किसान नेता राम प्रवेश यादव, बब्वन यादव   सुरेन्द्र चौहान, महमूद आलम,राजेन्द्र यादव, बाढ़ु यादव, मोछु यादव ने सम्बोधित किया। संचालन किसान नेता दशरथ यादव ने किया। 

इस दौरान सुदामा यादव, कमलेश पति कुशवाहा, ई अवधेश यादव,निखिल पटेल, अमर बहादुर चौहान, सरोज यादव, रूपेन्द्र चौहान, अशोक चौहान, अरविंद यादव, अमरजीत यादव, सत्यम् सोनकर सहित तमाम किसान मौजूद रहे।

चंदौली जिले की खबरों को सबसे पहले पढ़ने और जानने के लिए चंदौली समाचार के टेलीग्राम से जुड़े।*